अगले साल फिर आने की प्रार्थना करके 5 वें दिन की गौरी गणपति को दी गयी भावभीनी विदाई


SHARE

गणपती बाप्पा मोरया… पुढच्या वर्षी लवकर या...सोमवार को पांचवे दिन की गणपति का विसर्जन भक्तों ने इसी जयघोष के साथ करके बाप्पा को भावभीनी विदाई दी साथ ही गणपति के साथ-साथ गौरी की भी विदाई की गयी। विसर्जन के लिए इस बार बीएमसी की तरफ से 61 विसर्जन स्थल सहित 31 कृत्रिम तालाब बनाए गए थे। आंकड़ों के मुताबिक रात 9 बजे तक सभी विसर्जन स्थलों पर 672 सार्वजनिक आउट 45428 घरेलू गणपति का विसर्जन हो चुका था।

भीड़ को संभालने के लिए पुख्ता इंतजाम 
सोमवार को पांचवें दिन की गणपति का विसर्जन किया गया। गणपति के साथ-साथ गौरी का भी विसर्जन किया गया।विसर्जन होने के कारण समुद्री किनारों पर तमाम व्यवस्था किये गए थे। दोपहर से ही विसर्जन का सिलसिला जो शुरु हुआ तो रात तक चलता रहा। भक्तों की काफी भीड़ देखने को मिली। मुंबई के गिरगांव, दादर, शिवाजी पार्क, जुहू, वर्सोवा सहित अन्य किनारों पर भी पुलिस और बीएमसी की तरफ से पुख्ता व्यवस्था किये गए थे।

विसर्जन के दौरान कोई अनहोनी नहीं 
रात 9 बजे तक जो आंकड़े उपलब्ध हुए उसके मुताबिक सभी विसर्जन स्थलों पर 672 सार्वजनिक, 41228 घरेलू, 3518 गौरी कुल मिलाकर 45418 गौरी गणपति का विसर्जन किया गया। जबकि कृत्रिम तालाबों में  102 सार्वजिनक, 7585 घरेलू एयर 522 गौरी का विसर्जन किया गया। समाचार लिखे जाने तक प्रशासन की तरफ से शांति पूर्ण विसर्जन की खबर मिली, विसर्जन के दौरान कहीं से भी कोई अनहोनी होने की खबर नहीं मिली।

संबंधित विषय