दिल तो 'बड्डा' है जी..!

दहिसर - आज बप्प्पा के विसर्जन का दिन है, लोगों की आंखे नम हैं, प्रकृति भी बारिश रुपी आंसू बहा रही है। भक्तों में बप्पा के आखिरी दर्शन के लिए उत्साह इतना होता है कि वे भूखे पेट ही घर से निकल जाते हैं। इनकी भूख मिटाने का जिम्मा लिया है, समाजसेवक कानुभाई भरवाड़ ने। आपको लग रहा होगा कि ये कोई बड़े बिजनेसमैन होंगे। पर ऐसा नहीं है, वे हमारे आपके जैसे सामान्य इन्सान हैं। दहिसर की एक चॉल में रहते हैं। पर उनका दिल बहुत बड़ा है। वे पिछले आठ सालों से बप्पा के 40 हजार भक्तों को वड़ा पाव खिला रहे हैं।

Loading Comments