नियम तोड़ने पर गोविंदा पथक की होगी जबाबदार- दही हंडी समिती

सभी गोविंदा पथक को बीमा कराने और बिना पुलिस के इजाजत के पथक नहीं बनाने जैसे नियम बनाए गये हैं।

SHARE

दही हंडी उत्सव में मात्र अब दो दिन रह गये हैं, सभी गोविंदा अपनी अपनी तैयारी में जी जान से लगे हुए हैं। इसी कड़ी में दही हंडी समन्वय समिति ने कहा है कि नियमों का उल्लंघन करने वाले किसी भी पथक की मदद नहीं की जाएगी, किसी भी प्रकार के होने वाले हादसे या दुर्घटना की जिम्मेदारी खुद पथक की होगी। आपको बता दें कि सभी गोविंदा पथक को बीमा कराने और बिना पुलिस के इजाजत के पथक नहीं बनाने जैसे नियम बनाए गये हैं।

पढ़ें: इस बार कुछ फिकी सी रह सकती है दही हांडी

समिती  के नियम

यही नहीं दही हंडी के संदर्भ में जो नियम बनाए गये हैं उनमें, 14 साल से कम बच्चों को थर पर नहीं चढ़ाने, हेलमेट, सेफ्टी बेल्ट, हार्नेस बेल्ट, चेस्ट गार्ड और प्रोटेक्टर जैसे सुरक्षा उपकरणों का प्रयोग करने जैसे नियम शामिल हैं।

इसके अलावा मुंबई सहित उपनगरों में भी ऐसे कई गोविंदा पथक हैं जिनका रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। ऐसे पथक के सदस्यों के साथ अगर कोई हादसा होता है या फिर इनकी गाड़ी से कोई दुर्घटनाग्रस्त होता है तो इसे दही हंडी के नाम पर बचने या बचाने की कोशिश की जाती है। इसीलिए जो नियम बनाए गये हैं उसके अनुसार हर गोविंदा पथक को रजिस्ट्रेशन कराना होगा और हर गोविंदा के जन्मप्रमाण पत्र भी आयोजकों को दिखाना होगा।

पढ़ें: दही हंडी: गोविंदाओं को कराना होगा 'स्पॉट बीमा'

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें