एक होली ऐसी भी...

मुंबई - 7 द्वीपों माहिम, वर्ली, परेल, लिटल कोलाबा, कोलाबा, बॉम्बे, मझगांव से मिलकर मुंबई शहर का निर्माण हुआ है। मुंबई एक ऐसा शहर है जो कभी सोता नहीं है, यहां 24 घंटे गाड़ी, टैक्सी, रिक्शा दौड़ते रहते हैं। इस शहर में हरेक राज्य के लोग निवास करते हैं। जिसकी वजह से यहां विभिन्न धर्म और संस्कृति के दर्शन मिलते हैं। हरेक त्योहार को मुंबई में बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। मुंबई शहर की खोज में कोली समाज का बहुत बड़ा योगदान माना जाता है। आज होली है, कोली समाज होली की तैयारियों में जुट गया है। यह समाज कुछ अलग ही अंदाज से हर साल होली मनाता है। इनकी होली रात 12 बजे के बाद जलती है। होली बनाने के लिए जमीन में एक खबा गड़ाया जाता है, जिसे हल्दी से रंगा जाता है, उसे फूल आदे से सजाया जाता है। होली जलाने के बाद सभी को प्रसाद का वितरण किया जाता है।

Loading Comments