Advertisement

मुंबई : कोरोना के कारण 137 इमारतें सील

वर्तमान में, मुंबई में 137 इमारतों पर प्रतिबंध लगा हुआ है। जबकि स्लम एरिया में केवल 10 इलाके ही प्रतिबंधित किये गए हैं। हालांकि, मुंबई में प्रतिबंधित क्षेत्रों (restricted building) की संख्या कम हो रही है।

मुंबई : कोरोना के कारण 137 इमारतें सील
SHARES

मुंबई में कोरोना (Coronavirus case in Mumbai) के मरीजों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। बढ़ते कोरोना (Covid 19) मरीज़ों के कारण मुंबई महानगर पालिका (BMC) द्वारा कई इमारतों को सील कर दिया गया है, क्योंकि अधिकांश मरीज बिल्डिंगों से ही मिल रहे हैं। वर्तमान में, मुंबई में 137 इमारतों पर प्रतिबंध लगा हुआ है। जबकि स्लम एरिया में केवल 10 इलाके ही प्रतिबंधित किये गए हैं। हालांकि, मुंबई में प्रतिबंधित क्षेत्रों (restricted building) की संख्या कम हो रही है।

वर्तमान में मुंबई में बिल्डिंगों से अधिक संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। इसकी तुलना में स्लम इलाको सेे रोगियों की संख्या कम आ रही है। जिसकेे परिणामस्वरूप, स्लम इलाके में प्रतिबंधित क्षेत्रों की संख्या में कमी आई है। बावजूद इसके झुग्गी-झोपड़ियों में जनसंख्या का घनत्व अधिक होने के कारण प्रतिबंधित क्षेत्रों के दायरे में अधिक लोग आ रहे है। जबकि अधिकांश मामले बिल्डिंगों से सामने आ रहे हैं, इसलिए वहां प्रतिबंधित क्षेत्रों की संख्या भी अधिक है लेकिन वहां जनसंख्या का घनत्व कम होने के कारण वहां उसके दायरे में कम लोग आ रहे हैं।

इसके अलावा अगर एक इमारत में पांच या उससे अधिक मरीज पाए जाते हैं, तो पूरी इमारत को सील करने का आदेश BMC की तरफ से है।

वर्तमान में, अंधेरी, जोगेश्वरी पश्चिम में सबसे अधिक 19 इमारतें सील की गई हैं। इस बीच, चेंबूर में 18 इमारतों को, भंडुप में 16, बांद्रा पश्चिम में 12 और लालबाग परेल में 12 इमारतों को सील किया गया है।

मुंबई के अधिकांश हिस्सों में, कोई भी प्रतिबंधित क्षेत्र नहीं है। अकेले भांडुप में 6 प्रतिबंधित क्षेत्र हैं। इसके बाद कुर्ला में 2, बांद्रा में 1 और लालबाग परेल इलाके में 1-1 प्रतिबंधित क्षेत्र है।

मुंबई में ही जिन स्थानों पर सबसे ज्यादा संख्या में बिल्डिंग सील की गई हैं, उनमें अंधेरी, जोगेश्वरी, बोरीवली, ग्रांट रोड, मलाड, मुलुंड, चेंबूर, गोरेगांव, कांदिवली जैसे इलाके हैं।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें