टीबी के 10 में से 4 मामले मुंबई के!


SHARE

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत संचालित होने वाले हेल्थ मैनजमेंट इन्फॉर्मेशन सिस्टम (एचएमआईएस) से मिले आंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र में बच्चों में टीबी के मामलों में 40 प्रतिशत मुंबई से हैं।राज्य में मार्च'17 से अप्रैल'18 के बीच पीडिएट्रिक टीबी के 1709 मामले सामने आए हैं, इनमें से 685 (करीब 40 प्रतिशत) केवल मुंबई से हैं।

यह भी पढ़े- मरीजों के लिए वरदान साबित होती बाइक एम्बुलेंस सेवा

 हर साल तकरीबन 1 लाख 75 हजार टीबी के मामले

2017 में मुंबई में टीबी के कुल 45,675 मामले सामने आए थे। वहीं मार्च'17 से अप्रैल'18 के बीच 4 हजार से अधिक ड्रग रसिस्टेंट के मरीज भी इलाज के लिए रजिस्टर हुए थे। हालांकी ऐसा नहीं है की मुंबई मे टीबी को लेकर जागरुकता की कमी हो लेकिन इसके बाद भी शहर में टीबी के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। मुंबई में टीबी की जांच के लिए भी काफी सुविधाएं है। राज्य में हर साल तकरीबन 1 लाख 75 हजार टीबी के मामले सामने आते हैं।

पूरे टीबी मामले के 5-7 प्रतिशत पीडिएट्रिक

टीबी के अधिकतर मामले सरकारी अस्पताल में सामने आते है। पूरे टीबी मामले के 5-7 प्रतिशत पीडिएट्रिक के होते हैं। बड़ों की तुलना में बच्चों में इस बीमारी से निजात पाने का प्रतिशत अधिक होता है। एचएमआईएस से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, मुंबई के बाद राज्य में बच्चों में होने वाले टीबी के मामले में पालघर दूसरे स्थान पर है। उपरोक्त समय में पालघर में मार्च'17 से अप्रैल'18 के बीच 450 से अधिक पीडिएट्रिक टीबी मरीज सामने आए हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें