Advertisement

मुंबई : जुलाई महीने में सबसे अधिक ठीक हुए कोरोना मरीज

जुलाई महीने में मुंबई में 49 फीसदी मरीज ठीक हुए हैं। मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या कम होने और ठीक होने वाले रोगियों की संख्या में लगातार वृद्धि होते देख बीएमसी ने राहत की सांस ली है।

मुंबई : जुलाई महीने में सबसे अधिक ठीक हुए कोरोना मरीज
SHARES


कोरोना वायरस (Coronavirus) के मद्देनजर मुंबई से लगातार अच्छी खबर आ रही है। आंकड़ों के अनुसार जुलाई महीने में कोरोना वायरस (Covid-19) से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या सबसे अधिक है। जुलाई महीने में मुंबई में 49 फीसदी मरीज ठीक हुए हैं। मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या कम होने और ठीक होने वाले रोगियों की संख्या में लगातार वृद्धि होते देख बीएमसी ने राहत की सांस ली है।

 1 जुलाई को मुंबई में 78,708 कोरोना के मरीज थे, जिसमें से 44 हजार 791 मरीज ठीक हो चुके हैं। जुलाई में 29,288 सक्रिय रोगी थे।  31 जुलाई तक, कोरोना रोगियों की संख्या 1 लाख 14 हजार 278 तक पहुंच गई है। जबकि अभी तक कुल कोरोना से उबरने वाले मरीजों की संख्या 87,074 हो गई है। इसमें केवल जुलाई महीने में ही कुल 42283 मरीज ठीक हुए हैं।

मुंबई में, कोरोना रोगियों की दोहरी होने के अवधि यानी डबलिंग रेट 42 दिनों से बढ़कर 77 दिन हो गई है। जुलाई महीने में कुल 35,570 नए कोरोना रोगी पाए गए।  

पिछले कुछ दिनों में मुंबई में धारावी सहित कोरोना के मरीजों की संख्या में भारी गिरावट आई है। मुंबई में 24 प्रशासनिक प्रभागों को ध्यान में रखते हुए, कुल 18 विभागों में यानी दो तिहाई में औसत विकास दर 1 प्रतिशत या उससे कम है।

जुलाई में सक्रिय रोगियों की संख्या में भी गिरावट आई है।  नगरपालिका के आंकड़ों के अनुसार, 1 जुलाई को मुंबई में 29,288 सक्रिय रोगी थे। 31 जुलाई तक यह संख्या घटकर 20,569 हो गई।  हालांकि, जुलाई में मृत्यु दर अधिक थी, जहां 1 जुलाई तक, मुंबई में कोरोना के कारण 4,629 रोगियों की मौत हुई तो वहीं 31 जुलाई तक यानी एक महीने में ही 1,721 मरीजों की मौत हो गई।परिणामस्वरूप, जुलाई के अंत तक मृत्यु का आंकड़ा बढ़कर 6,350 हो गया।

सबसे ज्यादा मौतें अंधेरी ईस्ट में हुईं। अंधेरी ईस्ट में 455, धारावी में 439 और कुर्ला, साकीनाका वार्डों में 406 लोगों की मौतें हुईं है। कभी कोरोना का हॉटस्पॉट रहा धारावी में अब केवल 72 मरीज ही सक्रिय हैं। धारावी में अब तक 2560 मरीज मिल चुके हैं, जिसमें से 2235 मरीज ठीक हो चुके हैं।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement