अंधेरी ब्रिज हादसा- जिंदगी और मौत से जुझ रही 36 साल की अस्मिता काटकर!

अंधेरी ब्रिजे हादसे में अस्मिता घालय हो गई थी।

SHARE

3 जुलाई, 2018 को अंधेरी स्टेशन पर गोखले पुल का एक हिस्सा गिर जाने के कारण लगभग 6 लोग घायल हो गए। इन घायलों में से एक 36 साल की अस्मिता काटकर भी है , जो अभी जिंदगी और मौत के बीच जुझ रही है, अस्मिता सेमी कोमा में है।  को हादसे के बाद कूपर अस्पताल में भर्ती कराया गया। स्कूल में अपने बेटे को छोड़ने के बाद काटकर घर लौट रहे थी , उसी समय ये हादसा हो गया।

यह भी पढे़- बड़े ही काम का है WhatsApp का ये फिचर, अब ऐडमिन की मर्जी के बगैर ग्रुप में मैसेज नहीं भेज सकता कोई भी मेंबर

काटकर अपने बेटे को स्कूल छोड़ने के लिए उस पुल का रोजाना इस्तेमाल करती थी। 3 जुलाई को पुल गिरने के कारण वह मलबे के नीचे फंसे गई। जब काफी देर तक स्मिता घर नहीं आई तो उनके घरवाले चिंतित होना शुरु हो गए। जब उन्होने टीवी देखा तो अंधेरी ब्रिज हादसे के बार में उन्हे खबर मिली। अस्मिता के घरवालो को लगा की वो ब्रिजे के मलबे के नीचे फंसी हो सकती है , उनके भाई संजय गवस घटना स्थल पर पहुंचे और मुंबई की अग्निशामक और एनडीआरएफ के अधिकारियों को उनकी बहन की तलाश में सूचित किया।

36 वर्षीय अस्मिता काटकर सावंतवाडी में रहती है। वो घरों में रोटी बनाकर पैसे कमाती थी और उनके पति स्कूल में एक सफाई कर्मटारी के रुप में काम करते है। दंपत्ति का एक बेटा है जो 6 साल का है। चूंकि काटकर 16 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरी, उसके चेहरे, बाएं हाथ और मस्तिष्क पर गंभीर चोटें आई। कूपर अस्पताल के डॉक्टरों ने उनके चेहरे, मस्तिष्क और बाएं हाथ पर सर्जरी की।

यह भी पढे़- अब पुरुषों को बच्चो की देखभाल के लिए मिलेगी 180 दिन की छुट्टी

फोरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ राजेश सुखदेव का कहना है की "अस्मिता बहुत गंभीर है और उसके मस्तिष्क में रक्त की कमी है, न्यूरोलॉजिस्ट, प्लास्टिक सर्जन, ऑर्थो सर्जन की हमारी टीम ने उस पर सर्जरी की है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि वह ठीक हो जाएगी"।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें