Advertisement

BMC ने शुरू की सेरो सर्वेक्षण चरण की दूसरी शुरुआत

कोरोना वायरस (COVID-19) के केस भले ही कम हो रहे हो लेकिन बीएमसी (BMC) आज से माटुंगा, चेंबूर और दहिसर क्षेत्रों में CERO सर्वेक्षण के दूसरे चरण की शुरुआत करेगी।

BMC ने शुरू की सेरो सर्वेक्षण चरण की दूसरी शुरुआत
SHARES

पहले की अपेक्षा मुंबई में कोरोना वायरस (Coronavirus in mumbai) के मरीज अब कम सामने आ रहे हैं, इसके बाद भी बीएमसी(BMC) किसी गफलत में नहीं रहना चाहती है। कोरोना वायरस (COVID-19) के केस भले ही कम हो रहे हो लेकिन बीएमसी (BMC) आज से माटुंगा, चेंबूर और दहिसर क्षेत्रों में CERO सर्वेक्षण के दूसरे चरण की शुरुआत करेगी। BMC ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के निर्देशों के अनुसार सर्वेक्षण करने का निर्णय लिया है। कोरोना संक्रमण (COVID Pandemic) की गंभीरता को समझने के लिए यह सर्वेक्षण आयोजित किया जाएगा।

ICMR के अनुसार, 13 से 28 अगस्त तक माटुंगा (एफ-नॉर्थ), चेंबूर (एम-वेस्ट) और दहिसर (आर-नॉर्थ) के स्लम बस्तियों में CERO सर्वेक्षण किया जाएगा।

यह CERO सर्वेक्षण 13 से 20 अगस्त तक माटुंगा, चेंबूर और दहिसर की झुग्गियों में और 17 से 28 अगस्त तक सोसायटी और कॉलोनियों में किया जाएगा। इस सर्वेक्षण के दौरान दहिसर की सील की हुई इमारतों पर भी ध्यान दिया जाएगा। सर्वेक्षण के दूसरे चरण की रिपोर्ट जल्द से जल्द उपलब्ध कराने की योजना है। लेकिन फिर भी इसमें लगभग एक सप्ताह लगेगा रिपोर्ट मिलने में।

नगरपालिका के अधिकारियों ने कहा, इस सर्वेक्षण में सूचना और प्रौद्योगिकी का भी इस्तेमाल किया जाएगा। सर्वेक्षण में प्रतिभागियों को दो अलग-अलग ऐप में पंजीकृत किया जाएगा।

नगरपालिका पहले ही CERO सर्वेक्षण के लिए 500 लोगों के रक्त नमूने ले चुकी है। यह सर्वेक्षण सामान्य आबादी में संक्रमण के भौगोलिक प्रसार को समझने में मदद करेगा। इस सर्वेक्षण में 10,000 रक्त नमूने एकत्र किए जाएंगे। इस सर्वेक्षण में नीति आयोग, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई और अन्य के सहयोग से किया जाएगा।

इस सर्वेक्षण को चिकित्सा अधिकारियों (स्वास्थ्य) और गैर-सरकारी संगठनों की एक टीम सर्वेक्षण करेगी। यह टीम नागरिकों के घरों का दौरा करेगी और जानकारी और रक्त के नमूने एकत्र करेगी। नमूनों को कस्तूरबा माइक्रोबायोलॉजिकल डायग्नोस्टिक मेडिकल लेबोरेटरी, साथ ही इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रांसलेशनल हेल्थ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, फरीदाबाद भेजा जाएगा। वहाँ नमूने में एंटीबॉडी का निदान किया जाएगा

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय