Advertisement

खुशखबरी! 15 दिनों से एक भी नया मरीज नहीं आया सामने


खुशखबरी! 15 दिनों से एक भी नया मरीज नहीं आया सामने
SHARES

मुंबई में लगातार कोरोना (Covid-19) के बढ़ते हुए मामले को देखकर जहां मुंबईकरों की चिंताएं बढ़ गयी है तो वहीं कुछ ऐसी भी खबर है जो लोगों की चिंताएं घटाने का काम भी कर रही हैं। खबर है कि वर्ली कोलीवाड़ा इलाका जो कोरोना हॉटस्पॉट था वहाँ से 15 दिनों में एक भी नया मरीज सामने नहीं आया है। यही नहीं इस इलाके का 70 फीसदी भाग डिकन्टेन्ट हो गया है यानी कॉन्टेन्टमेंट जोन से बाहर आ गया है।

रिपोर्ट के अनुसार वर्ली के कई इलाको में 15 दिन से एक भी नया मरीज सामने नहीं आया है जिसके बाद इन इलाकों को डिकन्टेन्ट कर दिया गया है। इसके बाद इन इलाकों को कॉन्टेन्टमेंट जोन से बाहर कसर दिया गया। साथ ही इस इलाके में कुछ शर्तों के साथ मछुआरों को मछली पकड़ने की भी अनुमति दी गयी है।

गौरतलब है कि एक समय वर्ली इलाके में कोरोना के मरीज बहुतायत संख्या में सामने आ रहे थे। यह इलाका कोरोना हॉटस्पॉट घोषित हो चुका था। कई इलाके को सील कर दिया गया। 

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए बीएमसी ने खास तौर पर इस इलाके के लिए एक पैटर्न यानी योजना बनाई, जिसे वर्ली पैटर्न नाम दिया गया।

इस योजना को लागू करने के बाद योजना कारागार सिद्ध हुई, और कोरोना को रोकने में सफलता मिली। यही कारण है कि पिछले 15 दिनों से कोरोना का एक भी मरीज सामने नहीं आया और कई इलाकों को भी कॉन्टेन्टमेंट जोन से बाहर कर दिया गया।

अब इस इलाके को प्रतिबंधित क्षेत्र की सूची में से हटा दिया गया है।

चार दिन पहले BMC ने वर्ली के जनता कॉलोनी और जीजामाता नगर दोनों इलाकों में कॉन्टेन्टमेंट जोन में कुछ ढील दी गयी।

मुंबई नगर निगम प्रशासन ने वर्ली कोलीवाडा जेट्टी से मछली पकड़ने की पांच नावों को छोड़ने की अनुमति भी दी है। जी/दक्षिण विभाग के सहायक आयुक्त और मछुआरा संघ के प्रतिनिधियों और पुलिस के बीच हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया।  इस फैसले से कोलीवाड़ा के मछुआरों को बड़ी राहत मिली है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें