राज्य में 5 हजार से अधिक लोग हाई रिस्क कांटेक्ट में, किए गए क्वारंटीन

मुंबई में रोगियों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। मुंबई में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़कर 162 हो गई है। इस संकट से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर काम किये जा रहे हैं।

राज्य में 5 हजार से अधिक लोग हाई रिस्क कांटेक्ट में, किए गए क्वारंटीन
SHARES


राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (health minister rajesh tope) ने बताया कि 5000 से अधिक लोगों के कोरोनो वायरस (Coronavirus) रोगियों के संपर्क में होने के कारण हाई रिस्क कांटेक्ट में आ गए हैं। अब सभी को क्वारंटीन किया गया है जहां सभी का स्वास्थ्य चेकअप किया जाएगा। स्वास्थ्यमंत्री BMC के वॉर रूम गए थे जहाँ उन्होंने कोरोना से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों का जायजा लिया।


राजेश टोपे ने बताया कि प्रशासन द्वारा सभी उपाय किए जा रहे हैं। कोरोना पीड़ितों के संपर्क में आने से लगभग 5,000 से अधिक लोग हाई रिस्क कांटेक्ट में आ गए हैं। जिसके बाद अब सभी को क्वारंटीन किया गया है। इन सभी का अलग-अलग परीक्षण किया जाएगा। टोपे ने बताया कि लगभग 4 हजार लोग इनकी देखरेख करेंगे।

टोपे ने बताया कि वर्तमान में, मुंबई में एक दिन में 2000 परीक्षण किए जा रहे हैं।  इसके अलावा, अतिरिक्त मास्क और वेंटिलेटर भी तैयार किए जा रहे हैं, राजेश टोपे ने कहा।  उन्होंने यह भी बताया कि बैठक में इस कोरोना जैसी चुनौती को दूर करने के बारे में भी चर्चा की गई थी।


मुंबई में रोगियों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। मुंबई में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़कर 162 हो गई है। इस संकट से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर काम किये जा रहे हैं। मुंबई के 5 सरकारी तो 7 निजी अस्पतालों में कोरोना संदिग्धों का परीक्षण किया जा रहा है।  


जैसे-जैसे राज्य में कोरोना वायरस (Covid -19) के रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है वैसे-वैसे प्रशासन की चिंताएं भी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही हैं। महाराष्ट्र में कोरोना से पीड़ित लोगों की संख्या अब बढ़ कर 320 तक पहुँच गई है। जिसमें से 12 लोगों की मौत भी हो चुकी है। यही नही इनमें से 36 मरीजों को पूरी तरह से ठीक होने के बाद उन्हें घर जाने की छुट्टी दे दी गई।  राज्य में सबसे ज्यादा मरीज मुंबई में हैं जिनकी संख्या 162 है। इसके बाद पुणे में 38 और सांगली में 25 हैं।  इसके अलावा, पिंपरी चिंचवाड़, नागपुर और बुलदाना के विभिन्न जिलों में कोरोना से प्रभावित रोगियों का उपचार चल रहा है।

संबंधित विषय