Advertisement

धारावी में कोरोना के मद्देनजर 'टोटल रिकॉल'

एक महीने पहले दादर में वनिता समाज कोविड सेंटर (vividh center) में तीन चार मरीज हुआ करते थे। लेकिन यह संख्या अब 100 तक पहुंच गई है। इस तेजी से बढ़ रही संख्या को रोकने के लिए, पुलिस ने नगरपालिका के साथ काम करना भी शुरू कर दिया है।

धारावी में कोरोना के मद्देनजर 'टोटल रिकॉल'
SHARES

जैसे-जैसे राज्य में कोरोना (Covid19) का प्रसार बढ़ रहा है, धारावी (dharavi) में इसके रोकने के उपाय फिर से शुरू किए जा रहे हैं। जहां धारावी में कुछ दिन पहले तक संक्रमित लोगों की संख्या शून्य आती थी, अब वहां एक दिन में 12 से 15 मरीज फिर से पाए जा रहे हैं। नगरपालिका और पुलिस प्रशासन यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं कि भविष्य में यह संख्या न बढ़े। नियम का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई, डोर टू डोर जांच, पुलिस द्वारा गस्त बढ़ाना जैसे उपायों वाला 'धारावी पैटर्न' एक बार फिर लागू हो रहा है।

धारावी, जहां लॉकडाउन (lockdown) अवधि के दौरान मरघट सा सन्नाटा पसरा था अब फिर से उसी स्थिती में आता नजर आ रहा है। बाजार में भीड़ हो रही है, लेकिन यह भीड़ कोरोना (coronavirus) से बेपरवाह नजर आती है। लापरवाही का इसी आलम का नतीजा है कि रोगियों की संख्या फिर से बढ़ रही है। BMC द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, कुछ दिनों पहले, पीड़ितों की संख्या शून्य या तो एक ही सामने आती थी, जो अब दस से बारह तक पहुंच गई है। एक महीने पहले दादर में वनिता समाज कोविड सेंटर (covid center) में तीन चार मरीज हुआ करते थे। लेकिन यह संख्या अब 100 तक पहुंच गई है। इस तेजी से बढ़ रही संख्या को रोकने के लिए, पुलिस ने नगरपालिका के साथ काम करना भी शुरू कर दिया है।

BMC के एक अधिकारी ने कहा कि, पहले लोगों को अलग करके फिर कोरोना का परीक्षण (Corona test) किया गया जाता था, लेकिन अब लोग पेट का सवाल होने के कारण अलग होने के लिए तैयार नहीं होते हैं। इसलिए प्रत्यक्ष लोगों के टेस्ट पर जोर दिया जा रहा है। ताकि कोरोना संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके। कुछ जगहों पर क्लीनअप मार्शलों को भी तैनात किया गया है।'

इसके अलावा पुलिस प्रशासन भी अपने इलाके में गश्त बढ़ा कर, लोगों में जागरूकता बढ़ा कर, बाजार में भीड़ को नियंत्रित करने, बिना मास्क के चलने वालों पर कार्रवाई करने का काम कर रही है।

G उत्तरी क्षेत्र में कुल 11 स्वास्थ्य केंद्र हैं। उनमें से नौ धारावी में हैं। वर्तमान में उन सभी केंद्रों पर कोरोना जांच चल रही है। इसके अलावा, डॉक्टर मोबाइल वैन और डोर-टू-डोर के माध्यम से भी जांच की जा रही है। जीआर-नॉर्थ डिवीजन ऑफिस के सहायक आयुक्त किरण दिघावकर ने कहा कि संक्रमित मरीज के संपर्क में 20 से 25 व्यक्तियों पर कोरोना परीक्षण किया जा रहा है।

धारावी पुलिस स्टेशन के सीनियर जांच अधिकारी, गुलाब पाटिल ने कहा कि, इलाकों में गश्ती बढ़ा दी गई है। दो दिन पहले, टी-जंक्शन क्षेत्र में बिना मास्क के घूम रहे एक घंटे में ही 90 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई। हमने स्थानीय प्रतिनिधियों, गणेशोत्सव मंडलों से अपने-अपने विभागों में जागरूकता और सतर्कता बनाने की अपील की है। कुछ निजी अस्पतालों के डॉक्टरों को चेक-अप के लिए पुलिस स्टेशन द्वारा बुलाया जा रहा है। बाजारों में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

कोरोना की बढ़ती संख्या के बावजूद, लाखों की आबादी वाले धारावी में हर दिन विभिन्न धार्मिक त्योहारों, शादी समारोहों और कार्यक्रमों का आयोजन होता है। चमड़ा उद्योग, मिट्टी के बर्तन, प्लास्टिक के सामान, कपड़े, जरी काम जैसे उद्योगों के कारण सड़कों और बाजारों में दिन-रात भीड़ रहती है। तो ऐसे वातावरण में सोशल डिस्टेंस के नियम और मास्क लगाने की अनिवार्यता को भी लागू किया जा रहा है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें