दौड़ेगी रेल एंबुलेंस... खत्म होंगी परेशानियां

मुंबई - भारतीय रेलवे में पहली बार रेल एंबुलेंस का निर्माण किया गया है। बढ़ती घटनाओं की संख्या को देखते हुए मध्य रेलवे ने रेल एंबुलेंस का निर्माण किया है। अब मध्य रेलवे के किसी भी स्टेशन पर अगर कोई घटना घटती है तो रेल एंबुलेंस तत्काल पहुंचेगी। इस रेल में चार कोच हैं। प्रत्येक कोच में अलग अलग विभाग हैं। बड़ी समस्या होने पर रेल एंबुलेंस के भीतर ही ऑपरेशन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। प्रत्येक कोच में डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे। यह सेवा बुधवार से शुरु हो गई है। दिन प्रतिदिन लोकल में हादसों की संख्या बढ़ती जा रही है, इसको रोकने के लिए रेलवे ने यह कदम उठाया है।
सीआर अधिकारियों का कहना है कि भारत की पहली रेल एम्बुलेंस को बनाया जा रहा है और इसे एक स्वास्थ्य शिविर के लिए गुरुवार को मुंबई से लोनावला में स्थानांतरित किया जा रहा है। अपर महाप्रबंधक ए के श्रीवास्तव, मंडल रेल प्रबंधक रविन्द्र गोयल, मुख्य पीआरओ नरेंद्र पाटिल सहित कई अधिकारी एक संवाददाता सम्मेलन में उपस्थित थे।

इक ट्रेन का इस्तेमाल अस्पतालों में प्रत्यारोपण के लिए अंगों के परिवहन के लिए किया जा सकता है। एम्बुलेंस चिकित्सा परीक्षण का संचालन करने के लिए चार वातानुकूलित डिब्बे, 400-500 बेड, छोटे से ऑपरेशन थिएटर और विभिन्न उपकरण मौजूद है। संचालन के लिए ग्रीन कॉरिडोर का इस्तेमाल किया जाएगा। यह जानकारी सीआर के मुख्य पीआरओ नरेंद्र पाटिल ने दी।

Loading Comments