Advertisement

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने दूसरा लॉकडाउन लगाने का दिया संकेत

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री, राजेश टोपे ने कहा कि अगर महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर आती है, तो यह 'खतरनाक' साबित हो सकता है।

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने दूसरा लॉकडाउन लगाने का दिया संकेत
SHARES

कोरोना (Covid19) को लेकर एक बार फिर चिंता कर देने वाली खबर सामने आ रही है। कम होने के बाद पिछले कुछ दिनों में भारत के कई राज्यों में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले फिर से बढ़े हैं। इसमें गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली प्रमुख रूप से हैं। गुजरात, मध्यप्रदेश और राजस्थान के कई शहरों में नाईट कर्फ्यू (night curfew) लगा दिया गया है।

महाराष्ट्र (maharashtra) के कई जिलों में भी कोरोना के केस में वृद्धि हुई है। संबंधित अधिकारियों का कहना है कि, दिवाली के दौरान भीड़ बढ़ने के कारण कोरोना मामलों में वृद्धि हुई है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (cm uddhav thackeray) ने लोगों से अपील करके घर पर ही सादगी तरीके से त्योहार को मनाने की अपील की थी। लेकिन लोगों पर न तो इस अपील का असर हुआ, साथ ही सरकार द्वारा लगाए गए मानदंडों की भी धज्जियां उड़ाई। कई तो बिना मास्क (mask) पहने ही बाहर निकल रहे थे, और सोशल डिस्टेंस (social distance) का भी पालन नहीं किया।

संबंधित अधिकारियों द्वारा और सरकार की तरफ से तो COVID19 के दूसरी लहर आने की चेतावनी दी गई है।

इसी कड़ी में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (duty cm ajit pawar) ने रविवार, 22 नवंबर को कहा कि, लोगों ने पहले गणेशोत्सव के दौरान और अब दिवाली के दौरान भी कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया। लोग घरों से निकले और भीड़ का हिस्सा बने। 

उन्होंने आगे कहा, सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, अधिकारियों ने संबंधित विभागों से बात की है ताकि वे आवश्यक कार्य कर सकें। अगले 2-3 दिनों में स्थिति की गहन समीक्षा के बाद, सरकार द्वारा उठाए जाने वाले कदमों की घोषणा की जाएगी। पवार ने यह भी स्पष्ट किया कि, महाराष्ट्र में एक और लॉकडाउन भी हो सकता है।

महाराष्ट्र सरकार ने भी सभी स्थानीय निकायों से सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन नहीं करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया है। मास्क नहीं पहनने वाले लोगों पर जुर्माना लगाया जा रहा है। तो दूसरी ओर, सरकार ने अस्पतालों से बेड, मेडीकल सुविधाओं सहित दवाओं को तैयार रखने और उन्हें स्टॉक में रखने के भी निर्देश दिए हैं। इस बाबत राज्य के स्वास्थ्य मंत्री, राजेश टोपे ने कहा कि अगर महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर आती है, तो यह 'खतरनाक' साबित हो सकता है।

इस बीच, बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल (BMC commissioner iqbal singh chahal) ने कहा है कि मुंबई की लोकल ट्रेनें (local train) अगले 3-4 सप्ताह के लिए आम जनता के लिए फिर शुरू नहीं की जाएगी। स्थिति का अध्ययन और मूल्यांकन करने के बाद ही कुछ निर्णय लिया जा सकेगा। मुंबई के स्कूलों को भी 31 दिसंबर, 2020 तक शुरू नहीं किया जाएगा।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय