वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी


  • वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी
  • वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी
  • वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी
  • वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी
  • वाडिया अस्पताल ने फिर रचा इतिहास, शरीर से जुड़े दो बच्चों को अलग कर दी नयी जिंदगी
SHARE

डॉक्टरों को यूँ ही भगवान नहीं कहा जाता। एक बार फिर से वाडिया अस्पताल के डॉक्टरों ने दो जुड़वा बच्चों की जान बचाई। प्रिंस और लव नाम के दो जुड़वा बच्चे है और दोनों का शरीर आपस में जुड़ा था। डेढ़ साल के इन दोनों भाइयों को सफलतापूर्वक ऑपरेशन कर इन्हे अलग किया गया।

20 डॉक्टरों ने किया 12 घंटे काम  

बताया जाता है कि इन बच्चो की छाती, मूत्राशय, लिवर और पेट आपस में जुड़े थे।  इनका ऑपरेशन करना डॉक्टरों के लिए काफी चुनौतीपूर्ण था,लेकिन मंगलवार को 20 डॉक्टरों की निगरानी में और 12 घंटे के अथक मेहनत के बाद लव और प्रिंस को सफलतापूर्वक ऑपरेशन करके इन्हे एक दूसरे से अलग किया गया।


डेढ़ साल से चल रहा था इलाज

लव और प्रिंस को जन्म के मातापिता का नाम शीतल और सागर झाल्टे है। शीतल जब गर्भ के 24 हफ्ते की जांच करवाने हॉस्पिटल गयी तो उसे डॉक्टरों ने जुड़वाँ बच्चों के बारे में बताया और उनके एक दूसरे से जुड़े होने की भी बात बतायी। इसे सुनकर शीतल घबरा गयी थी लेकिन डॉक्टरों ने इसे ऑपरेशन के जरिये अलग कर देने की इलाज भी बताया। डॉक्टरों द्वारा ढाढ़स बंधाने के बाद शीतल ने इन बच्चों को जन्म देने का फैसला किया। और 19 सितम्बर 2016 को शीतल ने इन बच्चों को जन्म दिया। उसी समय से वाडिया अस्पताल के डॉक्टर इन बच्चों का इलाज कर रहे थे।



प्रिंस और लव का सफलतापूर्वक ऑपरेशन किया गया और अब वे ठीक हैं।  अभी कुछ और दिन उन्हें डॉक्टरों की निगरानी में रखा जाएगा। अभी और भी कुछ सर्जरी करना बाकी है।

डॉ. मिनी बोधनवाला, सीईओ, वाडिया हॉस्पिटल

डॉक्टरों की इस सफलता से लव और प्रिंस के माता पिता काफी खुश हैं, साथ ही वाडिया अस्पताल के डॉक्टर्स भी खुश नजर आएं। इसके पहले वाडिया अस्पताल के डॉक्टरों ने रिद्दी और सिद्दी दो जुड़वां बहनों को ऑपरेशन से अलग किया था।










संबंधित विषय
ताजा ख़बरें