Advertisement

तेल का बार बार इस्तेमाल करना होटल व्यवसायी, रेस्तरांवालो को पड़ेगा भारी

FDA ने अब ऐसे होटल व्यवसायी, रेस्तरांवालो पर कार्रवाई करनेवाली है जो खाना बनाने के लिए तेल का दो बार से ज्यादा इस्तेमाल करते है।

तेल का बार बार इस्तेमाल करना होटल व्यवसायी, रेस्तरांवालो को पड़ेगा भारी
SHARES

कभी-कभी पेडलर्स, होटल व्यवसायी, रेस्तरां एक ही तेल का उपयोग एक बार या तीसरी या चौथी बार करते हैं। इस प्रकार के तेल का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। हालांकि तीसरी बार तेल का दोबारा इस्तेमाल करना अपराध है, लेकिन कई जगहों पर इसका व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है

अब खाद्य एवं औषधि प्रशासन (FDA) अपनी कमर कस रहा है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन कानून तोड़ने वालों पर नकेल कसने की तैयारी कर रहा है। एफडीए ने भी यही चेतावनी दी है की तेल के बार-बार उपयोग से कार्रवाई हो सकती है। भोजन तलने के लिए तेल की मात्रा का अधिकतम दो बार ही उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

एफडीए करेगा कार्रवाई

एफडीए खाद्य अपमिश्रण, साथ ही भोजन की गुणवत्ता पर कड़ी नजर रखता है। इसमें अब खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने अपना ध्यान खाद्य तेलों पर स्थानांतरित कर दिया है। कहा गया है कि खाद्य तेल का तीसरी बार इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। यदि खाद्य तेल का तीसरी बार पुन: उपयोग किया जाता है, तो खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2006, नियम और विनियम 2011 के तहत दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

प्रतिदिन 50 लीटर से अधिक तेल की खपत करने वाले पेशेवरों को तेल रिकॉर्ड रखने की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, पुनर्नवीनीकरण और संग्रहीत खाद्य तेल केंद्रीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण, नई दिल्ली द्वारा अनुमोदित बायोडीजल कंपनी के लिए बाध्यकारी होना चाहिए।

प्रशासन ने दो बार खाद्य तेल का इस्तेमाल करने की सलाह दी है। यदि तीसरी बार तेल का प्रयोग किया जाए तो यह शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। तेल के तीसरे उपयोग से तेल में ध्रुवीय यौगिकों और ट्रांस वसा की मात्रा बढ़ जाती है। इससे कैंसर, हृदय रोग, पाचन रोग हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेराज्य भर में नर्सों का आज से काम बंद

संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें