Advertisement

वैक्सीन लगाने के बाद हुई पहली मौत, सरकारी पैनल ने की पुष्टी

8 मार्च को टीका लगवाने के बाद, एक 68 वर्षीय शख्स की मौत हो गई। यह शख्स एनाफिलेक्सिस एलर्जी से ग्रसित था। मृतक ने कोविशील्ड वैक्सीन लगवाया था।

वैक्सीन लगाने के बाद हुई पहली मौत, सरकारी पैनल ने की पुष्टी
(Representational Image)
SHARES

COVID-19 वैक्सीन के दुष्प्रभावों का अध्ययन करने वाले एक सरकारी पैनल ने मंगलवार टीकाकरण के बाद मौत (death due to vaccination) होनेे की पहली पुष्टि की है।

टीकाकरण के बाद national Adverse Event Following Immunization (AEFI) समिति की रिपोर्ट के अनुसार, 8 मार्च को टीका लगवाने के बाद, एक 68 वर्षीय शख्स की मौत हो गई। यह शख्स एनाफिलेक्सिस एलर्जी से ग्रसित था। मृतक ने कोविशील्ड वैक्सीन (covishield vaccine) लगवाया था।

रिपोर्ट में मौत का कारण "वैक्सीन उत्पाद संबंधी रिएक्शन" बताया गया है।

सरकारी पैनल की रिपोर्ट से पता चलता है कि एनाफिलेक्सिस के तीन मामले अब तक वैक्सीन उत्पाद से संबंधित पाए गए हैं। हालांकि, अन्य दो मामलों (21 और 22 वर्ष की आयु) में 16 और 19 जनवरी को टीका लगाया गया था और दोनों अस्पताल में भर्ती होने के बाद ठीक हो गए थे।

इस बीच, कोवैक्सिन (covaxine) के बाद दो प्रतिकूल घटनाएं अस्पताल में भर्ती होने की सामने आई। एक 22 वर्षीय व्यक्ति को एनाफिलेक्सिस था और दूसरे 26 वर्षीय व्यक्ति को बेहोशी (अस्थायी चेतना) था।

राष्ट्रीय एईएफआई समिति द्वारा 31 मामलों के मूल्यांकन के परिणामों को गहन समीक्षा और विचार-विमर्श के बाद अनुमोदित किया गया, जिसमें 5 फरवरी (पांच मामले), 9 मार्च (आठ मामले) और 31 मार्च, 2021 (18 मामले) शामिल है।

रिपोर्ट के अनुसार, मूल्यांकन किए गए 31 मामलों में से, 18 को टीकाकरण के लिए असंगत कारण संबंध के रूप में वर्गीकृत किया गया था (टीकाकरण से जुड़ा नहीं), सात को अनिश्चित के रूप में वर्गीकृत किया गया था, तीन मामलों को वैक्सीन उत्पाद से संबंधित पाया गया था, एक था चिंता से संबंधित प्रतिक्रिया और दो मामलों को अवर्गीकृत पाया गया।

एईएफआई समिति ने निष्कर्ष निकाला कि बेहोशी एक "टीकाकरण चिंता संबंधी प्रतिक्रिया" थी। मंत्रालय ने कहा कि देश में कोविड -19 टीकाकरण के बाद होने वाली मौतों की संख्या 23.5 करोड़ खुराक में से केवल 0.0002 प्रतिशत है, जो कि आबादी में अपेक्षित मृत्यु दर के भीतर है।

AEFI को "किसी भी अप्रिय चिकित्सा घटना के रूप में परिभाषित किया गया है जो टीकाकरण के बाद होती है और जिसका टीके के उपयोग के साथ एक कारण संबंध नहीं होता है। यह कोई प्रतिकूल या अनपेक्षित संकेत, असामान्य प्रयोगशाला खोज, लक्षण या रोग हो सकता है।

यह भी पढ़ें : मुंबई के एक हाउसिंग सोसायटी के निवासियों ने लगाया आरोप,दी गई नकली कोरोना वैक्सीन

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें