Advertisement

मलेरिया जांच के लिए बीएमसी ने शुरु की डोर टू डोर सर्विस

इस मुहिम के अंतर्गत गुरुवार को माहिम के कपड़ा बाजार, पारकर वाडी, धोबी घाट इन जगहों पर जांच की गई। 41 लोगों के रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया और एक व्यक्ति को मलेरिया से संक्रमित पाया गया।

मलेरिया जांच के लिए बीएमसी ने शुरु की डोर टू डोर सर्विस
SHARES

मुंबई में कोरोना (Coronavirus) अब धीरे-धीरे नियंत्रण में आ रहा है। डॉक्टर, नर्स, कोरोना के संक्रमण को पूरी तरह से नष्ट करने की कोशिश में लगे हुए हैं। हालांकि, मुंबई में पिछले कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है। इस समय के दौरान अन्य बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाता है। खासतौर पर 'मलेरिया' (Malaria)। हालांकि, कोरोना के बारे में चल रही चर्चा और सोशल मीडिया पर संदेशों द्वारा पैदा की गई असुरक्षा के कारण, बहुत से लोग मलेरिया के इलाज के लिए अनिच्छुक हैं। इसलिए, इन नागरिकों को असुविधा न हो, इसके लिए बीएमसी ने के उत्तर प्रभाग ने भी मलेरिया के खिलाफ एक अभियान शुरू किया है।

जी उत्तर विभाग में मलेरिया के रोगी दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। अगस्त में 3,915 लोगों के रक्त के नमूने एकत्र करने के बाद, 82 मलेरिया रोगी पाए गए। परिणामस्वरूप, तुरंत छह स्थानों पर स्क्रीनिंग शिविर शुरू किए गए हैं और मलेरिया परीक्षण भी बढ़ाए गए हैं।

यह भी पढ़ें: 14 हजार 718 नए मरीज, राज्य में एक दिन में 355 मौतें

फिर भी, कई लोग अभी भी अस्पताल जाने से डरते हैं। इसलिए, उनके डर को दूर करने और उन्हें उचित इलाज दिलाने के लिए, उत्तर विभाग में कोरोना परीक्षण केंद्र की तरह मलेरिया परीक्षण केंद्र स्थापित किए गए हैं। परीक्षण केंद्र मुफ्त मलेरिया के लिए परीक्षण कर रहा है। इसके अलावा, मरीजों का सही मार्गदर्शन करने के लिए डॉक्टरों की एक विशेष टीम बनाई गई है।

बुधवार से बीएमसी केउत्तरी प्रभाग के कई हिस्सों में मलेरिया के खिलाफ एक अभियान शुरू किया गया है। यह अभियान रेतीबंदर, रामगढ़, कपड़ा बाज़ार, स्टार मॉल, उपेंद्रनगर और अब्दुल गनी चॉल में चलाया जा रहा है। ऑपरेशन के पहले दिन, बुधवार को रेतीबंदर और रामगढ़ में 125 लोगों के रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया।

यह भी पढ़ें: BMC के COVID-19 सेरो-सर्वे के दूसरे चरण में 5,800 निवासियों को शामिल किया जाएगा

इस मुहिम के अंतर्गत गुरुवार को माहिम के कपड़ा बाजार, पारकर वाडी, धोबी घाट इन जगहों पर जांच की गई। 41 लोगों के रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया और एक व्यक्ति को मलेरिया से संक्रमित पाया गया। स्टार मॉल, केलकर वाडी, आराधना भवन, गणेश पेठ लेन में निरीक्षण किया गया। इसमें 44 लोगों के रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया और 4 लोगों को बुखार पाया गया।

इस मुहिम के अंतर्गत घर घर जाकर मलेरिया की जांच की जा रही है। जिसके अनुसार, गुरूवार को राजमाह बिल्डिंग और क्रांती नगर में  31 लोगों के रक्त के सैंपल लिए गए। प्रकाश नगर में 32 रहिवासियों की जांच की गई। शुक्रवार को शुबह से मशिद गल्ली, भवानी शंकर रोड इन परिसर में 28 लोगों और गुलमोहम्मळ में 23 लोगों की जांच की गई है।

हालांकि कोरोना धीरे-धीरे नियंत्रण में आ रहा है, लेकिन मुंबईकरों के मन में भय अभी भी बना हुआ है। मलेरिया की व्यापकता को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न स्थानों पर मलेरिया परीक्षण शिविर शुरू किए गए हैं। इसके अलावा, डोर-टू-डोर जांच की जा रही है। इस अभियान को मुंबईकरों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। मलेरिया परीक्षण रिपोर्ट कुछ घंटों में प्राप्त होती है। इसलिए मलेरिया के बारे में तुरंत जानकारी हासिल करने के लिए तेजी से परीक्षण किए जा रहे हैं।

- डॉ. तुषार लाड.

यह भी पढ़ें: मीरा-भायंदर में गुरुवार को COVID-19 के 176 नए केस, 7 की मौत

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय