Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
59,97,587
Recovered:
57,53,290
Deaths:
1,19,303
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
14,577
863
Maharashtra
1,21,859
10,066

कोरोना रोगियों की कोरोना के साथ साथ होगी मानसिक जांच

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना रोगियों में होने वाली मानसिक समस्याओं के उपचार के लिए दिशानिर्देश तैयार करने के लिए एक समिति का गठन किया है।

कोरोना रोगियों की कोरोना के साथ साथ होगी मानसिक जांच
SHARES

महाराष्ट्र सरकार ने निर्णय लिया है कि, अब कोरोना (Covid19) मरीजों का कोरोना वायरस का इलाज तो होगा ही, साथ ही उनका मानसिक जांच भी किया जाएगा। बताया जा रहा है कि, इस बीमारी के दौरान मरीज काफी मानसिक दबाव महसूस करता है। स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में कुछ दिशानिर्देश  भी जारी किए हैं।स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना रोगियों में होने वाली मानसिक समस्याओं के उपचार के लिए दिशानिर्देश तैयार करने के लिए एक समिति का गठन किया है। इस समिति ने हाल ही में सरकार को ये दिशानिर्देश सौंपे हैं और स्वास्थ्य विभाग ने तदनुसार उपाय करने के आदेश दिए हैं।

इस दिशानिर्देश में कोरोना मरीजों का उपचार करने के लिए डॉक्टरों सहित सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के लिए कहा गया है। इसमें अस्पताल के अतिरिक्त बाहर उपचार करा रहे प्रत्येक मरीजों के मानसिक स्वास्थ्य की जांच करने को भी कहा गया है। अगर किसी में संदिग्ध लक्षण पाएं जाते हैं तो उसे तुरंत मनोचिकित्सक के पास भेजना चाहिए। ऐसे मनोवैज्ञानिक रोगियों के लिए विशेषज्ञों को एक अलग उपचार की योजना बनानी चाहिए।

दिशा निर्देशों के मुताबिक, मनोचिकित्सकों को प्रत्येक रोगी की मानसिक स्वास्थ्य जांच, उपचार और अन्य व्यक्तिगत जानकारी भी दर्ज करनी चाहिए; ताकि उपचार के दौरान या बाद में मरीजों से संपर्क किया जा सके।

यह भी सुझाया गया है कि, अस्पताल में मनोचिकित्सकों या मनोवैज्ञानिकों को कोरोना रोगियों में मानसिक तनाव को रोकने के लिए सप्ताह में एक बार डॉक्टरों की सलाह लेनी चाहिए। मनोरोग के निदान के लिए संबंधित अस्पताल के डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए प्रशिक्षण आयोजित किया जाना चाहिए। रोगियों के लिए योग प्रशिक्षण भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए। इसके लिए जिला कलेक्टर द्वारा धनराशि भी प्रदान की जाएगी।

यह देखने और सुनने को मिला है कि कई कोरोना मरीज कोरोनरी दबाव के कारण आत्महत्या करने की कोशिश करते हैं। इसलिए, जिन रोगियों ने पहले आत्महत्या का प्रयास किया है या उनमें ऐसा करने के संदिग्ध लक्षण दिख रहे हैं तो उन्हें तुरंत जांच के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जाना चाहिए। उनका मनोचिकित्सक की देखरेख में उपचार किया जाना चाहिए। उन पर भी लगातार नजर रखी जानी चाहिए। कैंची, ब्लेड आदि खतरनाक वस्तुओं को अपने पास नहीं रखना चाहिए। ऐसे मरीजों के कमरे की खिड़कियों में ग्रिल होनी चाहिए। साथ ही दरवाजों में ताले नहीं होने चाहिए। दरवाजे को बाहर से बंद किया जाना चाहिए ताकि रोगी भाग न जाए। इसमें कहा गया है कि स्वास्थ्य कार्यकर्ता को रोगी के साथ शौचालय में जाना चाहिए।

चूंकि कोरोना अवधि के दौरान वरिष्ठ नागरिकों, शिशुओं और गर्भवती माताओं में मानसिक तनाव की संभावना अधिक होती है, इसलिए इस श्रेणी में मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने पर जोर दिया जाना चाहिए।  यदि अस्पताल में मनोचिकित्सक नहीं है, तो उसे निजी विशेषज्ञों को नियुक्त करने की शक्ति दी गई है और उनके मानदेय का भुगतान कोरोनेशन फंड से किया जाएगा।

प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि, पिछले कई महीनों से लगातार सेवा दे रहे डॉक्टरों, नर्सों और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों के बीच तनाव को कम करने के लिए कुछ एहतियाती उपाय किए जाएंगे।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें