Advertisement

ग्रामीण इलाकों की अपेक्षा शहरी इलाकों में कोरोना केस की वृद्धि दर अधिक

खबरों के अनुसार, राज्य के शहरी हिस्सों का केसलोड शेयर (caseload share)18 अक्टूबर को 57.68 प्रतिशत तक बढ़ गया, जो कि एक महीने पहले 51.6 प्रतिशत तक था।

ग्रामीण इलाकों की अपेक्षा शहरी इलाकों में कोरोना केस की वृद्धि दर अधिक
SHARES

एक रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र के शहरी क्षेत्रों (urban areas) में, ग्रामीण क्षेत्रों (rural areas) की तुलना में कोरोना वायरस (Coronavirus) के अधिक मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।

खबरों के अनुसार, राज्य के शहरी हिस्सों का केसलोड शेयर (caseload share)18 अक्टूबर को 57.68 प्रतिशत तक बढ़ गया, जो कि एक महीने पहले 51.6 प्रतिशत तक था। 9 मार्च को राज्य में कोरोना वायरस (Covid-19) का पहला मामला दर्ज होने के बाद से शहरी क्षेत्र जो 27 नगर निगमों द्वारा शासित होते हैं, केसलोड में काफी बड़ी वृद्धि दर्ज की गई।

इस बीच रविवार, 18 अक्टूबर को, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,060 मामले दर्ज किए, जिसके बाद राज्य में COVID-19 के कुल केस बढ़कर 15.95 लाख तक हो गए। साथ ही मृत्यु दर भी 42,000 के आंकड़ें को पार कर गई जबकि रिकवरी दर बढ़कर 85.86 प्रतिशत हुुई हैै। दूसरी ओर, सिर्फ मुंबई मेंं ही कोरोना वायरस के 1,600 नए मामलों की रिपोर्ट दर्ज की गई है, जिसके बाद COVID-19 के कुल केस बढ़कर 2.41 लाख हो गयी। तो वहीं सक्रिय मामलों की संख्या भी बढ़कर 18,062 हो गयी है।

हालांकि, वर्सोवा-अंधेरी-घाटकोपर (VAG) कॉरिडोर पर महामारी के बीच मेट्रो सेवा आखिरकार आज से फिर शुरू हो गई है।

पिछले कई महीनों में काफी बार पूछे जाने के बाद रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (health minister harshvardhan) ने स्वीकार किया कि भारत के कुछ इलाकों में कोरोना का सामुदायिक प्रसार हुआ है।  हालांकि, उन्होंने कहा कि यह केवल कुछ जिलों और राज्यों तक ही सीमित है।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय