जीनत के लिए सोशल मीडिया बना वरदान... जानें कैसे हुई मदद

 Mumbai
जीनत के लिए सोशल मीडिया बना वरदान... जानें कैसे हुई मदद

मुंबई - पिछले कुछ वर्षों में सोशल मीडिया का महत्व बढ़ा है। सोशल मीडिया के माध्यम से बहुत से जरूरतमंद और गरीब लोगों को मदद मिल रही है। हाल ही में सोशल मीडिया में शोभा डे के एक ट्वीट से एमपी के एक पुलिस अधिकारी का मोटापा कम करने में मदद मिली। कुछ ऐसा ही एक मामला सामने आया है औरंगाबाद की रहने वाली जीनत खान (38) के साथ, जिनकी मुंबई के वोक्हार्ट हास्पिटल के बैरिऐट्रिक व मेटाबोलिक सर्जन डॉ रमण गोयल द्वारा बुधवार को एक सफल सर्जरी की गई। 148 किलों की जीनत की ये सर्जरी वजन कम करने को लेकर की गई थी। बेहद साधारण परिवार से आने वाली जीनत को पैसे की मदद भी सोशल मीडिया के माध्यम से मिली। जीनत की सर्जरी में पैसों की कमी को पूरा करने के लिए कई पुराने मोटापे के मरीज सामने आए। उन्होंने जीनत के लिए आर्थिक मदद की। बुधवार को डेढ़ घंटे चली सर्जरी में जीनत के शरीर से गैरजरूरी मांस हटाया गया। जीनत एक टीचर का काम करती थी लेकिन अपने बढ़ते मोटापे के चलते उन्हें नौकरी छोड़नी पड़ी। अपने बढ़ते मोटापे के कारण जीनत चल भी नहीं पा रही थी।
जीनत के पति सिर्फ तीन हजार रुपए महीना कमाते हैं ऐसे में उनके लिए ऐसी महंगी सर्जरी करना मुमकिन नहीं था। उन्होंने बताया कि मुझे कई विभिन्न संगठनों से करीब पांच हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्राप्त हुई जिसके बाद एक ऑनलाइन कैंपेन में मुझे कई पुराने मरीजों की तरफ से आर्थिक सहायता मिली। कई पूर्व मरीजों ने मुझे 1000 और 1500 रुपए की आर्थिक सहायता की। वहीं डॉ रमण गोयल का कहना है कि हमने उनकी स्थिति को देखते हुए हॉस्पिटल फीस और डॉक्टर फीस में कटौती की। उम्मीद है कि इस सर्जरी के बाद जीनत के कुल वजन में से करीब 70-80 किलो वजन कम हो जाएगा। जीनत की एक नौ साल की बेटी और 7 साल का बेटा है जो औरंगाबाद में अपनी मां के लौटने का इंतजार कर रहे हैं। वहीं जीनत का ठीक होने के बाद फिर से काम पर लौटने का विचार है।

Loading Comments