दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल

 Pratiksha Nagar
दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल
दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल
दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल
दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल
दो सरकारी विभाग की आपसी टाल-मटोल से कई लोगों की सुरक्षा पर उठे सवाल
See all

मुंबई – सायन के प्रतीक्षा नगर में स्थित म्हाडा कॉलोनी की चैतन्य सोसायटी की बाउंड्री वॉल के निर्माण को लेकर म्हाडा और इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल के बीच आपस में टालमटोल जारी है। 

इस बाउंड्री वॉल को बनाने के लिए तीन दुकानें आड़े आ रही हैं जिन्हें तोड़े बगैर बाउंड्री वॉल को बनाना मुश्किल है लेकिन इन दुकानों को तोड़ने के लिए इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल की तरफ से कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है, जबकि म्हाडा का कहना है कि उन दुकानों का किराया इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल वसूलता है तो दुकानों को तोड़ने का अधिकार क्षेत्र में उसी के अंतर्गत आता है। अब बाउंड्री वॉल न बनने से बिल्डिंगों में रहने वाले लोगों की सुरक्षा पर सवालिया निशान उठ रहे हैं।

2011 में बनी इन म्हाडा की इमारतों की खस्ताहाल अवस्था को लेकर मुंबई लाइव ने प्रमुखता देते हुए इस खबर को छापा था। खबर छपने के बाद इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल नींद से जागते हुए इमारत के मरम्मत का कार्य शुरू किया है। स्थानीय निवासियों ने इस संदर्भ में मुंबई लाइव को धन्यवाद भी दिया था, लेकिन मम्मत कार्य बाउंड्री वॉल पर आकर रुक गया है जिसके आड़े तीन दुकानें आ रही हैं।
इस सम्बन्ध में इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल के एक सीनियर अधिकारी ने मुंबई लाइव से बात करते हुए कहा कि यह तीनों दुकान अपात्र है बावजूद इसके इमारत दुरूस्ती और पुनर्रचना मंडल की तरफ से इसका किराया वसूला जा रहा है। लेकिन इस आपात्र दुकानों को किस आधार पर पुनर्वासित किया जा सकता है, यह नियम से परे है और हम ऐसा नहीं करेंगे। इस अधिकारी ने आगे बताया कि इस बाबत म्हाडा से जवाब मांगा गया है जिसका इन्तजार हम कर रहे हैं।

जबकि म्हाडा के प्रमुख अधिकारी सुभाष लाखे ने जल्द ही इस मुद्दे को सुलझाने का आश्वासन दिया है। सुभाष लाखे के इस आश्वासन से स्थानीय निवासी कतई इत्तेफाक नहीं रखते, उनका कहना है कि म्हाडा ने अब तक कितने ही आश्वासन दिया है उनमें से कितने पूरे हुए हैं? निवासियों ने इसका समाधान न निकलने पर रास्ते पर उतरने की धमकी भी दी।

Loading Comments