Coronavirus cases in Maharashtra: 164Mumbai: 56Islampur Sangli: 24Pune: 18Pimpri Chinchwad: 13Nagpur: 10Kalyan: 6Navi Mumbai: 6Thane: 5Yavatmal: 4Ahmednagar: 3Satara: 2Panvel: 2Ulhasnagar: 1Aurangabad: 1Ratnagiri: 1Vasai-Virar: 1Sindudurga: 1Kolhapur: 1Pune Gramin: 1Godiya: 1Palghar: 1Gujrat Citizen in Maharashtra: 1Total Deaths: 5Total Discharged: 0BMC Helpline Number:1916State Helpline Number:022-22694725

मेट्रो-7 के काम को लेकर नाखुश एमएमआरडीए, तीन ठेकेदार कंपनियों को भेजा नोटिस


मेट्रो-7 के काम को लेकर नाखुश एमएमआरडीए, तीन ठेकेदार कंपनियों को भेजा नोटिस
SHARE

मुंबई मेट्रोपॉलिटन क्षेत्र विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) ने दहिसर से अंधेरी तक बन रही मेट्रो-7 के कार्य पर नाखुशी जताते हुए तीन ठेकेदारों- सिम्प्लेक्स इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड, एनसीसी लिमिटेड और जे कुमार इन्फ्रप्रोजेक्ट्स लिमिटेड को नोटिस भेजा है। एमएमआरडीए के अनुसार मेट्रो-7 कार्य बेहद ही धीमी गति से हो रहा है और इससे इस योजना को पूरा होने में काफी देरी हो सकती है।

11 अगस्त को भेजे गए इस नोटिस के अनुसार इन तीनों कंपनियों को 16.5 किलोमीटर के गलियारे का निर्माण करने का काम दिया गया है लेकिन यह काम बेहद ही धीमी और ख़राब तरीके से हो रहा है। साथ ही इन कंपनियों के पास अपर्याप्त संसाधनों की कमी का भी हवाला दिया गया है।

अपर्याप्त संसाधनों का उल्लेख करते हुए नोटिस में एमएमआरडीए ने कहा है कि सिम्प्लेक्स इंफ्रास्ट्रक्चर ने 600 की जगह केवल 320 मजदूरों को ही साइट काम के लिए लगाया है। इसी तरह से जे कुमार इंफ्रप्रोजेक्ट ने 600 बदले मात्र 395 मजदूरों और एनसीसी ने केवल 318 मजदूर को काम में लगाया हैं।

एमएमआरडीए के अधिकारियों का मानना है कि धीमी गति से इस परियोजना की समय-सीमा पर असर पड़ सकता है क्योंकि राज्य सरकार 2019 के अंत तक मेट्रो लाइन को पूरा करने की योजना बना रही है।  

यह भी पढ़े : मेट्रो-7 के कर्मचारियों की लापरवाही से जख्मी हुआ एक स्कूटर सवार

इस नोटिस के जवाब में जे कुमार के प्रवक्ता ने कहा कि कार्य धीमी गति से हो रहा है क्योंकि खदानों में पत्थर की खुदाई बरसात के चलते बंद है, जिसके परिणामस्वरूप निर्माण सामग्री की कमी हो रही है।साथ ही जे.कुमार ने मजूदरों की कमी की बात को नकारते हुए कहा कि बारिश और निर्माण सामग्रियों के चलते मजदूरों को रेस्ट दिया गया है, काम के समय फिर से उन्हें बुला लिया जाएगा। जबकि इस नोटिस का सिंप्लेक्स और एनसीसी की तरफ से कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है।

इस कार्य को 2019 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसीलिए कार्य ठीक से हो रह है या नहीं इसकी जांच की जा रही है। काम धीमी गति से हो रहा है इसीलिए ठेकेदारों को नोटिस दिया गया है। यह एक रूटीन है।

दिलीप कवठकर, सहकारिता संचालक  (जनसंपर्क)


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 



संबंधित विषय
ताजा ख़बरें