MMRDA का हिस्सा होगा पालघर जिला

एक आंकड़ें के मुताबिक इसके पहले मुंबई की भौगोलिक स्थिति यानी क्षेत्रफल में 4335 वर्ग किलोमीटर है। लेकिन अब इसमें 2000 वर्ग किलोमीटर का इलाका और भी जुड़ जाने के बाद MMRDA के अंडर में कुल 6 हजार वर्ग किलोमीटर से अधिक का इलाका आ जाएगा।

SHARE

मुंबई के आसपास इलाकों में बढ़ती हुई जनसंख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने MMRDA (Mumbai Metropolitan Region Development Authority)का विस्तार किया है। अब नई दृष्टि से MMRDA में वसई, पनवेल, अलीबाग़, खालापुर और पेण इलाकों के कुछ भाग तो पालघर जिला पूरी तरह से MMRDA का हिस्सा होंगे। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में इस विस्तार को मंजूरी दी गयी. अब इन इलाकों के विकास का अधिकार एमएमआरडीए को मिल जाएगा।

सरकार की मंजूरी मिलने के बाद विधानसभा के आगामी बजट सत्र में MMRDA अधिनियम की अनुसूची में संशोधन का प्रस्ताव पेश किया जाएगा। एक आंकड़ें के मुताबिक इसके पहले मुंबई की भौगोलिक स्थिति यानी क्षेत्रफल में 4335 वर्ग किलोमीटर है। लेकिन अब इसमें 2000 वर्ग किलोमीटर का इलाका और भी जुड़ जाने के बाद MMRDA के अंडर में कुल 6 हजार वर्ग किलोमीटर से अधिक का इलाका आ जाएगा।

इसके अलावा मुंबई और उसके आसपास इलाकों में कई योजनाएं भी चल रही हैं जिनमें मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन, मुंबई-नागपुर समृद्धि महामार्ग, मुंबई-सूरत द्रुतगति महामार्ग, नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, पालघर जिला व उद्योग केंद्र, मुंबई पारबंदर परियोजना, विरार-अलीबाग मल्टिमोडल कॉरिडोर और विभिन्न मेट्रो परियोजनाएं शामिल हैं। इस वजह से एमएमआरडीए का क्षेत्र बढ़ाने की मांग हो रही थी। आशा जताई जा रही है कि MMRDA में शामिल होने के बाद अब इन इलाकों के विकास कार्य में गति आएगी।

संबंधित विषय