अहंकार को त्यागकर बन सकते हैं बड़े

मुंबई - सद्गुरू कहते हैं कि स्वयं को छोटा समझकर ही फलक छू सकते हो, शिखर को चूम सकते हो, आसमान में उड़ सकते हो। अहंकार और अभिमान में बहुत भार होता है यह कभी आपको आसमान में उड़ने नहीं देगा, कभी आपको बड़ा नहीं बनने देगा।

दूसरी बात - यदि कमर, पांव, पीठ और रीढ़ की हड्डियों में दर्द रहता हो, बहुत इलाज कराके भी आराम न मिल रहा हो तो, यदि करियर में बहुत चुनौतियां हो, यदि कुंडली में बृहस्पति खराब हो तो 43 दिन तक चार सौ ग्राम भूने चने और चार केले किसी मंदिर में दान कर दें। इससे बहुत लाभ होगा।

Loading Comments