‘मेरी अखियों के सामने ही रहना’ !

इंतजार की घड़ियां खत्म होने वाली हैं। जल्द ही मां दुर्गा का आगमन शहर में होने वाला है। मूर्तिकार अंबे मां को आखिरी रूप दे रहे हैं। कुंभारवाड़ा निवासी सुदेश कदम देवी के बड़े भक्त हैं। वे चाहतें हैं मां हमेशा उनकी आंखों के समाने रहें। वे पिछले पांच सालों से क्ले मिट्टी से बप्पा की मूर्तियां बनाते आ रहे हैं। ये बप्पा की मूर्ति बनाने के साथ ही दुर्गा की मूर्ति बनाने में भी अव्वल हैं। कदम को राज्यपाल ने क्ले मिट्टी से मूर्ति बनाने के उपलक्ष्य में सम्मानित भी किया है।

Loading Comments