दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल

दिवाली के मौके पर पटाखे फोड़ने कारण हवा खराब हो जाती है जिससे कई तरह की बीमारीयां हो सकती है ,ऐसे में आपको दिवाली के बाद भी अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरुत है।

  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
  • दिवाली के बाद कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल
SHARE

दिवाली को दियों के साथ साथ पटाखों का त्योहार भी कहा जाता है। दिवाली शुरु होते है आपके आसपास पटाखे का शोर गुजना शुरु हो जाता है। इसके साथ ही पटाखों से निकलनेवाले जहरीले धुओ के कारण हवा भी काफी खराब हो जाती है। हवा खराब होने के कारण खांसी , सांस लेने में तकलीफ और त्वाचा से भी संबंधित कई समस्याएं हो सकती है। लिहाजा होली जैसे त्योहार के साथ साथ दिवाली जैसे त्योहारो के बाद भी आपको अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरुर होती है।


दिवाली के बाद कैसे रखे सेहत का ध्यान
1)दिवाली में पटाखे फोड़ने के कारण बाहर की हवा के साथ साथ घर में आनेवाली हवा भी काफी खराब होती है , लिहाजा घर हवा को साफ करने के लिए अपने घर में नीम के पत्तों की एक टहनी रखे। इसके अलावा, उबले हुए पानी के साथ अपना चेहरा धोएं या नहाने के पानी में नीम के पत्ते को उबाले। 

2) तुलसी के पौधे से भी हवा साफ होती है। आयुर्वेद में, तुलसी पत्तियों को अच्छे पाचन लक्षण और उपचार के लिए भी पहचाना जाता है। तुलसी पत्तियों का रस शहद की दो बूंदों से लिया जाता है, तो श्वसन संबंधी विकार खत्म हो सकते है। इसके साथ ही अगर आप तुलसी पत्तियों की चाय पीते हैं, तो आपको प्रदूषण के कारण खांसी से राहत मिल सकती है।


3) गुड़ को एक अच्छा डिटॉक्स फुड माना जाता है। प्रदुषण के समय शरीर में जानेवाले हानिकारक कणों को खत्म करने में गुण काफी फायदेमंद होता है। रक्त, फेफड़ों, वायुमार्गों और खाद्य कोशिकाओं में फंसे शरीर के लिए खतरनाक कण गुड़ के कारण ही बाहर निकलते है। । इसलिए, यह न केवल दिवाली में बल्कि अन्य दिनों में भी इस्तेमाल किया जाना चाहिए।


4) दिवाली के बाद हवा खराब होने के कारण कई बार लोगों को सर्दी की भी समस्या होने लगती है। इस सर्दी को रोकने के लिए देशी घी एक बेहद ही असरदार तरिका साबित होता है। देशी घी खाने से पेट का अल्सर ठिक होता है।


5) हल्दी वाला दूध पीने से भी आपको की तरह के फायदे होते है। त्वचा का कटाव, संक्रमण और अन्य समस्याओं से दूध में हल्दी पीने से छूटकारा पाया जा सकता है।


6)हल्दी दूध खाने से, त्वचा का कटाव, संक्रमण और अन्य समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। अगर हवा के प्रदूषण के कारण ठंड से संबंधित कुछ समस्या है, हल्दी और गुड़िया पीएं और बहुत गर्म पानी पीएं। इससे खांसी कम हो जाती है और गले में राहत मिलती है। हल्दी के साथ गुड मिलाकर गोला बनाये और उसे गर्म पानी के साथ खाए इससे खांसी में आराम मिलता है।

7) बालों और त्वचा के लिए एलोवेरा काफी फायदेमंद साबित होता है। अगर आप को पटाखे फोड़ने के कारण किसी भी तरह की त्वचा से संबंधित बीमारी हुई है तो एलोवेरा के इस्तेमाल से इसे खत्म किया जा सकता है।



संबंधित विषय
ताजा ख़बरें