दिवाली के दिन मन की दुर्बलता पर पाएं विजय

मुंबई - लक्ष्मी के बगल उनकी जुड़वां बहन अलक्ष्मी बैठती हैं जो गरीबी, दुख और दुर्भाग्य की देवी हैं। शक्ति, सुख और समृद्धि के साथ आता है भोग से उत्पन्न कचरा, चिपचिपे द्रव्य के रूप में जिसे हलाहल कहते हैं। आपने अगर दिवाली के दिन अपने मन से गंदगी, अंधेरा, नकारात्मकता यानि अपने मन के आंतरिक तिमिर जैसे क्रोध, कड़वे वचन, झूठे दंभ, नकली मान-अपमान, अतिसक्रियता और अतिभावुकता पर विजय प्राप्त कर ले, तो आपको आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता। क्षमा में सबसे बड़ी शक्ति होती है वो वास्तव में आपको विजयी बनाती है। इसलिए क्षमा को अपना सबसे बड़ा हथियार बनाना चाहिए।

Loading Comments