इन नेताओं की संपत्तियां 10 सालों में बढ़ी 10 गुना- ADR रिपोर्ट

इस ब्यौरा के अनुसार यूपी से संसद और विधानसभा पहुंचने वाले 38% माननीयों की पृष्ठभूमि आपराधिक है। इसमें 23% पर हत्या, दंगा, हत्या के प्रयास, रेप जैसे गंभीर अपराधों के मुकदमे हैं। साथ ही कई सांसदों-विधायकों की संपत्तियों में कई गुना इजाफा हुआ है।

SHARE

यूपी बेस्ड एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने साल 2004 से लेकर साल 2017 तक यूपी में हुए  चुनाव के नतीजों के विश्लेषण के आधार पर नेताओं की संपत्तियों और आपराधिक रिकॉर्डों ने हुई वृद्धि का ब्यौरा दिया है। इस ब्यौरा के अनुसार यूपी से संसद और विधानसभा पहुंचने वाले 38% माननीयों की पृष्ठभूमि आपराधिक है। इसमें 23% पर हत्या, दंगा, हत्या के प्रयास, रेप जैसे गंभीर अपराधों के मुकदमे हैं। साथ ही कई सांसदों-विधायकों की संपत्तियों में कई गुना इजाफा हुआ है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एडीआर के फाउंडर मेंबर प्रफेसर त्रिलोचन शास्त्री और यूपी इलेक्शन वॉच के संयोजक संजय सिंह ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि साल 2004 से अब तक 235 सांसदों ने चुनाव में जो ब्यौरा दिया था उसके अनुसार सांसदों की औसत संपत्ति 6.08 करोड़ रुपये है। अगर कुछ बड़े नेताओं की बात करें तो कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की संपत्ति 2004 के 55.38 लाख से करीब 16 गुना बढ़कर 2014 में 9.40 करोड़ रुपये से अधिक हो गई। एसपी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की संपत्ति 13 गुना बढ़ी है जबकि यूपीए की संयोजक सोनिया गांधी की संपत्ति में लगभग 10 गुना का इजाफा हुआ है। बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की संपत्ति में भी पांच गुना की वृद्धि हुई है। 

इस रिपोर्ट के अनुसार साल 2004 से लेकर साल 2017 तक लोकसभा और विधानसभा चुनाव में 19971 लोग उम्मीदवार थे। जिसमें से जितने वाले 1443 उम्मीदवारों का जब विश्लेषण किया गया तो जो रिपोर्ट आई वो चौकानें वाली थी। इस रिपोर्ट के मुताबिक एसपी के 42% नेताओं ने तो बीजेपी के 37%, बीएसपी के 34%, कांग्रेस के 35% और आरएलडी पार्टी से चुनकर आए हुए 21% नेताओ ने अपने ऊपर चल रहे आपराधिक मुकदमे घोषित किए। विधानसभा के चुनाव की बात करें तो साल 2012 में 45% दागी चुनकर आए थे जबकि 2007 और 2012 में यह आंकड़ा 35% का था। 

इन चुनावों में करोड़पतियों का भी खूब बोलबाला रहा। इन 13 सालों में बीएसपी के 59% करोड़पतियों में से 42%, एसपी के 55% करोड़पतियों में से 58%, बीजेपी के 52 % करोड़पतियों में से 73%,  कांग्रेस के 42% करोड़पतियों में से 52% करोड़पति जीत कर आये थे।

संबंधित विषय