Maharastra assembly elections 2019: कांग्रेस के इस रिकॉर्ड को बीजेपी ने तोड़ने का किया दावा

आज कांग्रेस की स्थिति चाहे जैसी भी हो, लेकिन इसी कांग्रेस ने पांच दशकों तक महाराष्ट्र में राज किया है।

SHARE

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण से नाराज पूर्व मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने शुक्रवार को पार्टी आलाकमान पर जमकर निशाना साधते कहा कि, सोनिया गांधी के साथ जुड़े लोग साजिश रच रहे हैं। कांग्रेस को चापलूसों से सावधान रहना होगा। अगर ऐसे लोगों को महत्व देंगे तो पार्टी की स्थिति और बदतर हो जाएगी। अगर मेरे साथ पार्टी का यही व्यवहार रहा तो प्रचार में शामिल नहीं होऊंगा। यही नहीं उन्होंने हरियाणा का भी उदहारण देते हुए कहा कि हरियाणा कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने गुरुवार को हरियाणा कांग्रेस की सभी चुनावी कमेटियों से इस्तीफा दे दिया। तंवर का आरोप है कि कांग्रेस को एक आदमी ने हाईजैक कर लिया है। हरियाणा कांग्रेस अब हुड्डा की कांग्रेस बनकर रह गई है। 

मजबूत नेतृत्व का आभाव और नेताओं के दलबदल से परेशान कांग्रेस पार्टी की स्थिति सिर्फ महाराष्ट्र या मुंबई में ही नहीं बल्कि हरियाणा में भी ऐसी है। इन दो राज्यों में ही नहीं बल्कि देश भर में कांग्रेस की स्थिति ठीक नहीं है। जहां कांग्रेस का राज है वहां भी पार्टी में आपसी मतभेद और झगड़ा देखने को मिलते हैं। महाराष्ट्र ही नहीं मुंबई में भी कांग्रेस की स्थिति बद से बदतर है। यह स्थिति अभी ही नहीं बल्कि लोकसभा चुनाव से काफी पहले से ही है। पार्टी को हर मोर्चे पर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पढ़ें: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव – मनसे उम्मीदवार संदिप देशपांडे ने फूंका चुनावी बिगुल

आज कांग्रेस की स्थिति चाहे जैसी भी हो, लेकिन इसी कांग्रेस ने पांच दशकों तक महाराष्ट्र में राज किया है। इसी कांग्रेस ने साल 1972 में महाराष्ट्र विधानसभा में अब तक सबसे ज्यादा 222 विधायक जीतने का रिकॉर्ड भी बनाया हैं। बताया जाता है कि उस समय महाराष्ट्र विधानसभा में 270 सीटें होती थीं, जो अब बढ़ कर 288 हो गयी हैं।इसके अलावा साल 1967 में कांग्रेस के 202 विधायक जीतने के रिकॉर्ड को भीआज तक कोई पार्टी नहीं तोड़ सकी है।

महाराष्ट्र की लगभग 59 साल की राजनीति में कांग्रेस ने 48 साल तक शासन किया है। पार्टी ने प्रदेश को 23 मुख्यमंत्री दिए। वसंतराव नाईक इनमें सबसे ज्यादा 12 साल (1963-75) तक प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। 1972 में उन्हीं के नेतृत्व में चुनाव लड़कर पार्टी ने 222 सीटें जीतकर कीर्तिमान बनाया था। इसके अलावा वह एक टर्म में लगातार पांच वर्षों तक मुख्यमंत्री रहे यह रिकॉर्ड भी उनके नाम दर्ज है। नाईक के अलावा इस बार देवेंद्र फडणवीस ही ऐसा करने वाले दूसरे मुख्यमंत्री हैं।

इस बार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा कि एनडीए को 220 से अधिक सीटें मिलने वाली हैं, यानीएक तरह वे कांग्रेस के 222 सीटों के रिकॉर्ड को तोड़ने का दावा कर चुके हैं। अब देखना है कि वे अपने इस दावे को पूरा कर पाते हैं या नहीं? 

पढ़ें: चुनाव से पहले बीजेपी को लगा झटका, मुख्यमंत्री फडणवीस पर चलेगा मुकदमा

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें