Advertisement

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने महाराष्ट्र के लोगों को 'मामू' बनाया- किरीट सोमैया

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष किरीट सोमैया ने एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) के साथ मिलाकर सत्ता बनाने वाली शिवसेना की आलोचना की।

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने महाराष्ट्र के लोगों को 'मामू' बनाया- किरीट सोमैया
SHARES

 


जैसे-जैसे ही विधानसभा का बजट सत्र (budget session) नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे महाविकास आघाड़ी सरकार को मुद्दे पर घेरने के लिए बीजेपी (BJP) अपने हमले और भी तेज करती जा रही है। हालांकि सत्ता पक्ष द्वारा बीजेपी को पुरजोर जवाब देने की काफी कोशिश भी की जा रही है इसी कड़ी में बीजेपी नेता किरीट सोमैया (kirit somaiya) से कांग्रेस नेता  सचिन सावंत (sachin sawant) और राजिव सातव (rajiv satav) के बीच ट्वीटर वॉर (twitter war) छिड़ गया

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष किरीट सोमैया ने एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) के साथ मिलाकर सत्ता बनाने वाली शिवसेना की आलोचना की। उन्होंने लिखा, (ajit pawar) अजीत पवार-शरद पवार (sharad pawar) ने किस किस को 'मामू' बनाया, मालूम नहीं, लेकिन (shiv sena) शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने महाराष्ट्र के लोगों को 'मामू' बनाया यह हकीकत है।

देखिये किरीट सोमैया का ट्वीट :-


 

सोमैया यही नहीं रुके, उन्होंने आगे ट्वीट किया कि,शिवसेना ने नरेंद्र मोदी के नाम पर विधानसभा चुनाव लड़ा। कांग्रेस-एनसीपी  गठबंधन के विरोध में चुनाव लड़ा। यदि आपको कोई प्रश्न पूछना है तो अजीत पवार से पूछें। इसलिए देवेंद्र फणडवीस (devednra fadnavis) कहते हैं कि उन्हें फिर से विधानसभा चुनाव कराने चाहिए।  

सोमैया के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया दिया कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने उन्होंने भी ट्वीट करते हुए लिखा, किरीट सोमैया जी आपने  क्या लिखा है और  इसका मतलब क्या हैं?" आप यह अच्छी तरह से जानते हैं कि अजीत पवार ने बीजेपी और फणडवीस साहब को 'मामू' बना दिया। 'मामू' से अच्छा है मुख्यमंत्री बनना! आपके मन में मेरा दूसरा अर्थ है मेरे मन में नहीं। 

 

जबकि राजीव सातव ने ट्वीट किया, किरीट जी, ऐसा मत समझो कि इतना ट्वीट करने के बाद देवेंद्र जी आपका टिकट नहीं काटेंगे आप तावड़े, पुरोहित, बावनकुले और खडसे से सविस्तार समझ सकते हैं


इसके पहले देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चुनौती देते हुए कहा था कि, अगर हिम्मत है तो फिर से विधानसभा का चुनाव करा लीजिये, जिसके जवाब में उद्धव ठाकरे ने कहा था कि, अगर हिम्मत है तो हमारी सरकार गिरा कर बताओ 

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement