Advertisement

कांग्रेस के मंत्री ने योगी आदित्यनाथ पर कसा तंज, कहा- 'मां नहीं ख्याल रखती इसलिए मजदूर मौसी के पास आते हैं'

कांग्रेस नेता ने आगे कहा, जब ये मजदूर अपने गांव पहुंचते हैं तो बताते हैं कि उन्हें महाराष्ट्र में काफी सम्मान मिला। लेकिन यहां लोगों को पीने का पानी और बच्चों को दूध तक भी नहीं मिल रहा है। यह बात आदित्यनाथ को समझना चाहिए।

कांग्रेस के मंत्री ने योगी आदित्यनाथ पर कसा तंज, कहा- 'मां नहीं ख्याल रखती इसलिए मजदूर मौसी के पास आते हैं'
SHARES
Advertisement


यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा मजदूरों के संदर्भ में दिए गए बयान के बाद अब महाराष्ट्र कांग्रेस ने उत्तर दिया है। राज्य के राजस्व मंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने तंज कसते हुए कहा कि, उत्तर प्रदेश की सत्तारूढ़ पार्टी स्थानीय लोगों को रोजगार देने में विफल रही है। तभी तो ये सभी प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र आते हैं। मां ख्याल नहीं रख पा रही है इसीलिए लोग मौसी के पास आते हैं।

महाराष्ट्र पिछले 2 महीनों सेे अपने खर्चे पर इन मजदूरों की अच्छी तरह से देखभाल कर रहा है, इस बात को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को समझना चाहिए।

आपको बता दें कि इसके पहले योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि यूपी के मज़दूर राज्य की संपदा हैं और वे ऐसी व्यवस्था चाहते हैं कि मज़दूरों को फिर राज्य छोड़कर जाना ही न पड़े। अगर कोई राज्य इन मजदूरों को काम के लिए बुलाता है तो पहले उसे यूपी सरकार से अनुमति लेनी पड़ेगी। इसी बात को लेकर कांग्रेस नेता थोराट ने योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा रहे थे।

बाल साहेब थोराट ने कहा कि, योगी आदित्यनाथ वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। उन्हें यह समझना चाहिए कि वह और उनकी सरकार उत्तर प्रदेश में नौकरियां पैदा नहीं कर पाए हैं। वहां से मजदूर इसीलिए महाराष्ट्र आते हैं, क्योंकि उनकी मां उन सभी की देखभाल नहीं कर पा रही हैं, इसीलिए वे अपनी मौसी के पास आते हैं।


 2 महीने की देखभाल किसने की?

थोराट ने आगे कहा कि, हम सभी ने देखा है कि पिछले 2 महीनों में इन प्रवासी श्रमिकों को कोई आय नहीं मिल रही है, कोई वेतन नहीं था, तो उनकी देखभाल किसने की?  इसलिए उनका महाराष्ट्र सरकार ने ख्याल रखा, उनका गैर सरकारी संगठनों और पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा खुशी से परिवार के सदस्य की तरह संभाला।  जब वे घर जाना चाह रहे हैं तो हम उन्हें सम्मानपूर्वक भेज रहे हैं। महाराष्ट्र सरकार उनके टिकट के लिए भुगतान कर रही है। और अब तक इस पर 100 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं।  यहाँ तक कि ट्रेन में भी उनके खाने-पीने की व्यवस्था की जा रही है और उन्हें सम्मान के साथ भेजा जा रहा है।

वहां क्या स्थिति है?

कांग्रेस नेता ने आगे कहा, जब ये मजदूर अपने गांव पहुंचते हैं तो बताते हैं कि उन्हें महाराष्ट्र में काफी सम्मान मिला। लेकिन यहां लोगों को पीने का पानी और बच्चों को दूध तक भी नहीं मिल रहा है। यह बात आदित्यनाथ को समझना चाहिए।

इससे पहले, योगी पर हमला करते हुए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने भी कहा था कि, अगर यूपी के लोग महाराष्ट्र में आते हैं, तो उन्हें महाराष्ट्र और हमारी पुलिस की अनुमति लेनी चाहिए।

संबंधित विषय
Advertisement