मुंबई नाका में 'ट्रैफिक' पर चर्चा

दादर - मंगलवार को मुंबई लाइव के कार्यक्रम मुंबई नाका में चर्चा का जो विषय था वह था मुंबई की सबसे बड़ी समस्या 'ट्रैफिक'। इस कार्यक्रम में एनसीपी के नेता और प्रवक्ता रविंद्र पवार, बीजेपी के प्रवक्ता अवधूत वाघ, सामाजिक कार्यकर्ता अजित शिनॉय और अभिनेता अभिराम भडकमकर ने शिरकत की थी।

ट्रैफिक की समस्या हर छोटे बड़े शहर की समस्या होती है लेकिन मुंबई में यह समस्या सुरसा के मुंह जैसा लगातार अपना मुंह फैलाती जा रही है। इस मुद्दे पर रविंद्र पवार ने कहा कि सत्ता पक्ष चुनाव में केवल आश्वासन देता है। उन्होंने आगे कहा कि सार्वजनिक यातायात व्यवस्था एकदम से चरमरा गयी है। बेस्ट प्रशासन की गलत नीति जिम्मेदार है। बेस्ट के यात्रियों की संख्या 32 लाख तक घटी गयी है। कांग्रेस-एनसीपी के समय मुंबई में कई सारी सड़के और मुंबई पूर्व-पश्चिम को जोड़ने वाले ब्रिज का निर्माण हुआ था।

बीजेपी के प्रवक्ता अवधूत वाघ ने रविन्द्र पवार के आरोप का उत्तर देते हुए कहा कि कांग्रेस-एनसीपी के समय सड़के तो बनी लेकिन उनका अधिक विकास नहीं हो पाया। उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना और बीजेपी के समय सड़क और पुलों का अधिक काम हुआ।

फिल्म अभिनेता और मंच कलाकर अभिराम भडकमकर ने अपना मत सामने लाते हुए कहा कि मुंबई के ट्रैफिक में अनुशासन नहीं है। लोग गाड़ी चलाते समय नियमों का पालन नहीं करते हैं। दुपहिया वाहनों के लिए अलग से मार्ग नहीं बनाये गये हैं। उन्होंने आगे कहा कि मुंबई जैसे शहर में जो कि समुद्र के किनारे बसा है यहां जल परिवहन बनाये जाने की सख्त जरुरत है।

तो वहीं सामाजिक कार्यकर्ता अजित शिनॉय ने कहा कि गाड़ी चलाते समय लोग फुटपाथ का जरा भी ध्यान नहीं रखते हैं। राहगीरों को चलने के लिए फुटपाथ पर जगह नही मिलती।

एक्टर अभिराम ने मुंबईकरों से आव्हान किया कि वे मतदान करें और अजित शिनॉय ने कहा कि यातायात सुविधा के लिए अलग अलग संस्थाओं को सामने आकर काम करने की जरुरत है। जबकि रविंद्र पवार ने कहा कि म्युनिसिपल कमिश्नर बदलने से प्रथमिकताएं भी बदल जाती है यह नहीं होना चाहिए, जबकि अवधूत वाघ ने लोगों से योग्य नगरसेवक चुनने की अपील की।

Loading Comments