देश विरोधी ताकतों को रोकना, शहीदों को सच्ची श्रद्धांजली - देवेंद्र फडणवीस


  • देश विरोधी ताकतों को रोकना, शहीदों को सच्ची श्रद्धांजली - देवेंद्र फडणवीस
SHARE

26/11 हमले को आज 9 साल हो गए हैं, पर लोगों के जख्म आज भी ताजा हैं। इस हमले को याद कर हमारा खून आज भी खौल उठता है। इसी विषय पर राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने लोगों से अपील की है, कि वे तय करें कि देश विरोधी प्रवृत्तियों को रोकने में पुलिस और सुरक्षा बलों की सहायता करेंगें, यह शहोदों को सच्ची श्रद्धांजली होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा, अपने देश समेत पूरी दुनियां में आतंकी घटनाओं को अंजाम देते हैं। इन घटनाओं को सिर्फ अकेले सुरक्षा बल और पुलिस नहीं रोक सकती, इसके लिए आपको भी सहयोग करना होगा। देश व समाज विरोधी प्रवृत्तियों को रोकने व देश की, शहर की सुरक्षा मजबूत बनाने के लिए सभी को सुरक्षा यंत्रणा का सहयोग करना होगा। यही हमारे शहीदों के लिए सच्ची श्रद्धांजली होगी।

सीमा सुरक्षा दल (बीएसएफ) की ओर से शहिदों की याद में आयोजित दिव्यांगों की कार रैली और सायकल रैली के कार्यक्रम में रविवारी को मुंबई के गेट वे ऑफ इंडिया में मुख्यमंत्री ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। और लोगों से अपील करते हुए शहीदों को श्रद्धाजली अर्पित की।

इस मौके पर राज्य के पुलिस महासंचालक सतीश माथूर, मुंबई के पुलिस आयुक्त दत्ता पडसलगीकर, सीमा सुरक्षा दल के अतिरिक्त पुलिस महासंचालक अरुण कुमार, महानिरीक्षक रमेशचंद ध्यानी आदि उपस्थित थे।

सीमा सुरक्षा दल की ओर से दिल्ली के इंडिया गेट से 14 नवंबर को रैली की शुरुआत हुई थी। 14,00 किमी. की दूरी तय करके आज रैली गेट वे ऑफ इंडिया पहुंची। इस मौके पर शामलि हुए कॉन्स्टेबल लाला व कॉन्स्टेबल हरेंदर इन दिव्यांग जवानों का मुख्यमंत्री फडणवीस के हाथों सम्मान किया गया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा, आज के दिन में मुंबई के बहुत से हिस्सों में आतंकी हमला हुआ था। इसमें सबसे बड़े हमले का शिकार ताज होटल हुई थी। पर भारत के साहस को डिगाने में किसी के पास क्षमता नहीं है। हमने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया। सीमा सुरक्षा दल, एनएसजी, फोर्स वन और अर्धसैनिक दल जैसी सुरक्षा यंत्रणाएं पूरी तरह से सज्ज हैं। जो जैसी भाषा समझता है हमारे देश के जवान उसे उस भाषा में जवाब देने के लिए तैयार हैं।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें