भाजपा सरकार के दौरान नौकरियां घटी!

33 लाख 4 हजार 305 अधिसूचित रिक्त पदों में से सिर्फ 8 लाख 23 हजार 107 पदों पर ही भर्ती!

SHARE

2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने हर साल 2 करोड़ नौकरी देने का एलान किया था,  लेकिन  चुनाव जीतने के बाद भाजपा नका ये वादा भी एक जुमला ही साबित हुआ। क्योंकि अधिसूचित की गई रिक्तपदों पर भारती नहीं की गई ऐसी जानकारी आरटीआई कार्यकर्ता शकील अहमद शेख ने कौशल विकास, रोजगार और जनसंपर्क निदेशालय से आईटीआई के जरिये ये जानकारी दी है ।

आरटीआई कार्यकर्ता शकील अहमद शेख ने महाराष्ट्र सरकार से जानकारी मांगी थी कि 2013 से उत्तर देने तक किस विभाग में, राज्य में कितना रोजगार पैदा हुआ है, राज्य में कितनी बेरोजगारी बढ़ी है और सरकार द्वारा राज्य में रोजगार बढ़ाने के  सरकार क्या कदम उठा रही है।

इस सन्दर्भ में कौशल विकास, रोजगार और जनसंपर्क निदेशालय के सूचना अधिकारी और उप निदेशक श्री र.ल. कोल्हर ने शकील अहमद शेख को जानकारी उपलब्ध कराई है।

जानकारी के अनुसार, राज्य में जनवरी 2013 से मार्च 2019 तक 34,23,243 अधिसूचित रिक्तपदों में से सिर्फ 9 लाख 37 हजार 765 पदों पर ही नियुक्ति की गई। जबकि, 35 लाख 23 हजार 272 बेरोजगार अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है। 

राज्य में रोजगार को बढ़ाने के लिए, सरकार ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय रोजगार मेला, रोजगार प्रोत्साहन कार्यक्रम, आदिवासी उम्मीदवारों को प्रशिक्षित करने और विभिन्न रियायतें देकर बेरोजगारी सेवा सहकारी समितियों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने जैसे उपाय शुरू किए हैं।

वर्षनुसार अधिसूचित रिक्त पदों की संख्या और पदों पर भर्ती की संख्या

  • वर्ष 2013 में 1 लाख 18 हजार 938 पद रिक्त हुए तो वही 114658 पदों  को भरा गया, यानी कि 96 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को गया ।
  • वर्ष 2014 में 841164 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 84707 पदों को भरा गया, यानी कि 10 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।
  • वर्ष 2015 में 571418 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 125457 पदों  को भरा गया, यानी कि 22 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।
  • वर्ष 2016 में 576857 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 144034 पदों  को भरा गया, यानी कि 25 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।
  • वर्ष 2017 में 413195 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 222639 पदों  को भरा गया, यानी कि 54 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।
  • वर्ष 2018 में 785390 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 197978 पदों  को भरा गया, यानी कि 25 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।
  • वर्ष 2019 मार्च तक  116281 पद रिक्त हुए तो वही मात्र 48292 पदों  को भरा गया, यानी कि 41 प्रतिशत अधिसूचित रिक्त पदों को भरा गया ।

2013 से  2019 मार्च तक 35 लाख 23 हजार 272 लोगों ने बेरोजगारों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज कराया है। यानी बीजेपी सरकार ने बेरोजगार युवाओं को नौकरी तो देती नहीं है उल्टा रिक्त पड़े पदों तक को भरती नहीं है जबकि 2013 में आघाडी सरकार ने 1,18,938 अधिसूचित रिक्त पदों में से 114658 पदों पर भर्ती की जो कि लगभग 96 प्रतिशत है।

किस साल बेरोजगारों की संख्या दर्ज 

  • 2013 में कुल 630364 बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2014 में कुल 5,36,498 बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2015 में कुल 4,61,910 बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2016 में कुल 460061  बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2017 में कुल 5,39,300 बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2018 में कुल 7,26,982 बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया
  • 2019 मार्च तक कुल 1,68,157बेरोजगारों ने अपने आप को रजिस्टर कराया

आरटीआई कार्यकर्ता शकील अहमद शेख का कहना है कि अगर बीजेपी सरकार स्वयरोजगार को रोजगार मानती है तो पकोड़े बेचने, पंचर बनाने जैसे रोजगार भाजपा कार्यकर्ताओं को ही दिया जाए, देश का शिक्षित बेरोजगार युवा ने इस तरह के काम करने के लिए डिग्रीयां नहीं ली है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें