Advertisement

गणेश विसर्जन के बाद महाराष्ट्र सरकार का होगा विसर्जन : रामदास आठवले

रामदास आठवले (ramdas athawale) ने कहा कि, संभावना है कि केवल शिवसेना, कांग्रेस और NCP के नेता ही इस सरकार को तोड़ेंगे और उखाड़ फेंकेंगे।

गणेश विसर्जन के बाद महाराष्ट्र सरकार का होगा विसर्जन : रामदास आठवले
SHARES

'महाविकास आघाड़ी सरकार (MVA government) का भविष्य नहीं है। श्रीगणेश के विसर्जन के बाद, महाविकास आघाड़ी सरकार (MVA) का भी विसर्जन हो जाएगा, और महाराष्ट्र में महायुति (mahayuti) की सरकार सत्ता में आएगी', यह दावा किया है, भारतीय रिपब्लिकन पार्टी (बी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सामाजिक न्याय राज्य मंत्री रामदास आठवले (ramdas athawale) ने।

तीनों पार्टियों के बीच के मतभेद और शरद पवार (sharad pawar) के बयान को लेकर अजीत पवार की नाराजगी पर टिप्पणी करते हुए, रामदास आठवले (ramdas athawale) ने कहा कि, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या (sushant singh rajput suicide case) के मामले की सही तरीके से जांच नहीं की जा रही है और अजीत पवार (ajit pawar) के बेटे पार्थ पवार (parth pawar) ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। पार्थ पवार युवा हैं और उनकी मांग भी कुछ ऐसी ही है। लेकिन राज्य सरकार में शामिल NCP के साथ, NCP के अध्यक्ष शरद पवार (sharad pawar) की भूमिका समझ मे नहीं आती। उन्होंने पार्थ पवार (parth pawar) को कड़े लहजे में संदेश दिया। शरद पवार (sharad pawar) के इस बयान पर अजीत पवार के नाराज होने की भी संभावना है। इससे पहले, उन्होंने देवेंद्र फडणवीस के साथ सरकार बनाई थी और उप मुख्यमंत्री (devendra fadnavis)  के रूप में शपथ ली थी।  इसलिए, असंतुष्ट अजीत पवार किसी भी समय सरकार छोड़ सकते हैं, 

इसके अलावा, एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) के बीच भी आंतरिक संघर्ष जारी है। कोरोना (COVID-19) संकट के दौरान गणेशोत्सव भले ही जोश और उत्साह के साथ न मनाया जाए लेकिन गणेश विसर्जन निश्चित रूप से होगा। इसी तरह, गणेश के विसर्जन के बाद, राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार भी विसर्जित हो जाएगी। उसके बाद, महाराष्ट्र में महायुति की सरकार सत्ता में आएगी।

आठवले के अनुसार, हालांकि संजय राउत केंद्र सरकार के ढहने का दावा कर रहे हैं, लेकिन इस दावे में कोई सच्चाई नहीं है। केंद्र सरकार बहुमत की सरकार है।  इसलिए इसके गिरने का कोई सवाल ही नहीं है। इसके विपरीत, संजय राउत (Sanjay raut) इस तरह का बयान दे रहे हैं क्योंकि उन्हें महाराष्ट्र सरकार के पतन का डर है। भाजपा सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra modi) के नेतृत्व में 2023 में भी केंद्र में आएगी। भले ही संजय राउत 'सामना' (saamna) के संपादक होंगे, लेकिन उनके पास मोदी का सामना करने की क्षमता नहीं है।

रामदास आठवले (ramdas athawale) ने कहा कि, संभावना है कि केवल शिवसेना, कांग्रेस और NCP के नेता ही इस सरकार को तोड़ेंगे और उखाड़ फेंकेंगे।
Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय