महापौर की लेट लतीफी, परेशान हुए नगरसेवक

 BMC
महापौर की लेट लतीफी, परेशान हुए नगरसेवक

एक शिक्षक अपने छात्रों को समय के महत्व को बताता है। मुंबई के मेयर विश्वनाथ महाडेश्वर भी एक शिक्षक हैं, लेकिन वे समय पर बीएमसी हाउस की कार्यवाही शुरू करने में असफल रहे हैं। महापौर महाडेश्वर ने अपने पूर्ववर्तियों महापौर की परम्परा को कायम रखते हुए चार से पांच सभा एक से डेढ़ घंटे लेट सभागृह की शुरुआत करते हैं। इसे देखते हुए एमएनएस के गुटनेता दिलीप लांडे ने गिफ्ट मेयर को एक दीवार घड़ी गिफ्ट में दी है, जिससे की वे समय पर सदन शुरू कर सकें।

जब विश्वनाथ महाडेश्वर महापौर बने थे तो यह उम्मीद जताई जा रही थी कि वे समय पर बीएमसी हाउस की कार्यवाही शुरू करेंगे। बीएमसी की पहली बैठक 10 मार्च को हुई थी और यह समय पर आयोजित की गई थी। हालांकि, उसके बाद सभी अन्य बैठकों को एक घंटे की देरी से आयोजित किया गया। नगरसेवक सदन में बेकार बैठने के लिए मजबूर होते हैं क्योंकि मेयर समय पर सदन तक नहीं पहुंच पाते हैं।

सदन की कार्यवाही देरी से चलने पर नगरसेवकों में नाराजगी है। उनमें से मनसे के दिलीप लांडे इतने तंग आ गये कि उन्होंने महापौर को एक दीवार घड़ी भेंट की ताकि वह समय पर आकर कार्यवाही शुरू कर सके। महापौर ने भी अपने चेहरे पर मुस्कान के साथ उपहार स्वीकार कर लिया और आश्वासन दिया कि हाउस की कार्यवाही अब समय पर शुरू होगी।

Loading Comments