Advertisement

योगी आदित्यनाथ पहुंचे मुंबई, शिवसेना और मनसे ने किया विरोध

मुंबई (mumbai) से फ़िल्म सिटी को बाहर ले जाने की बात पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Udhav Thackrey) ने कहा है कि 'वह महाराष्ट्र से किसी को ‘जबरन' कारोबार नहीं ले जाने देंगे।

योगी आदित्यनाथ पहुंचे मुंबई, शिवसेना और मनसे ने किया विरोध
SHARES

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) 2 दिवसीय मुंबई दौरे पर हैं। वे यहां कई फिल्मी हस्तियों से मुलाकात करके उन्हें यूपी में फ़िल्म सिटी (film city) निर्माण का न्योता देने आए हैं।

उनके इस दौरे को लेकर महाविकास आघाड़ी (mahavikas aghadi) और मनसे (mns) विरोध कर रहे हैं। मुंबई (mumbai) से फ़िल्म सिटी को बाहर ले जाने की बात पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Udhav Thackrey) ने कहा है कि 'वह महाराष्ट्र से किसी को ‘जबरन' कारोबार नहीं ले जाने देंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि महाराष्ट्र किसी की उन्नति से जलता नहीं है, बशर्ते यह निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा के तहत हो। लेकिन, अगर आप जबरन कोई चीज ले जाना चाहेंगे तो मैं ऐसा नहीं होने दूंगा और आप (उद्योगपति) भी ऐसा नहीं चाहेंगे।'

यही नहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत (sachin sawant) ने योगी पर आरोप लगाया कि, हिंदी फिल्म इंडस्ट्री बॉलीवुड (bollywood) को मुंबई से बाहर ले जाने की साजिश की जा रही है।

जबकि इस बारे में, मनसे ने ट्राइडेंट होटल (Trident hotel) के बाहर पोस्टर लगाया था। योगी इसी होटल में ठहरे थे। पोस्टर में लिखा था, कहां राजा भोज कहां गंगू तेली। कहां महाराष्ट्र का वैभव और कहां यूपी का दरिद्र। भारतीय सिनेमा जगत के जनक दादासाहेब फाल्के द्वारा स्थापित की गई फ़िल्म नगरी को यूपी ले जाने का मुंगेरीलाल के हसीन सपने देखना है। पिछड़े हुए राज्य की बेरोजगारी छिपाने के लिए मुंबई के उद्योग को ले जाने के लिए ठग आया है।

तो वहीं उद्धव ठाकरे के आरोपों पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, कोई कुछ छीन नहीं लेता। यह सिर्फ ओपन मार्केट कंपटीशन है। यह इस बारे में है कि कौन आपको बेहतर सुविधा देता है, जो कि अनुकूल माहौल प्रदान करता है। मुंबई फिल्म सिटी जैसा है, वैसा ही काम करेगा।यूपी का फिल्म सिटी अपना काम करेगा।

उन्होंने आगे कहा, हमारा काम सुविधाएं प्रदान करना है। हम इसे एक क्षेत्र के लिए प्रतिबंधित नहीं करना चाहते हैं, लेकिन इसे विश्वस्तरीय बनाना चाहते हैं। मैंने विशेषज्ञों के साथ बातचीत की। हम किसी से कुछ नहीं छीन रहे हैं। मैं यहां छीनने के लिए नहीं आया हूं, हम कुछ नया देने के लिए आए हैं। सभी को कुछ नया देना होना होता है। 

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement