Advertisement

महाविकास आघाड़ी को जनता ने किया स्वीकार - शरद पवार

चुनाव के इन परिणामों के कारण, महाविकास अगाड़ी के एक साथ चुनाव लड़ने के निर्णय को तीनों दलों के पदाधिकारियों द्वारा सराहा जा रहा है।

महाविकास आघाड़ी को जनता ने किया स्वीकार - शरद पवार
SHARES

महाराष्ट्र विधान परिषद (maharashtra vidhan parishad) के शिक्षक-स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में हुए चुनाव में सत्ताधारी महाविकास आघाड़ी (mva) सरकार ने BJP को जोरदार झटका दिया है। 

जिसके बाद राजनीतिक हलकों में प्रतिक्रिया शुरू हो गई है।  इसी कड़ी में NCP अध्यक्ष शरद पवार (sharad pawar) ने कहा है कि, यह जीत इस बात का संकेत है कि लोगों ने महाविकास आघाड़ी (MVA) को स्वीकार कर लिया है।

विधान परिषद के स्नातकों, शिक्षको और स्थानीय निकायों के निर्वाचन क्षेत्र में 6 सीटों के लिए मतदान 1 दिसंबर को हुआ था। इन मतों की गिनती 3 दिसंबर को हुई थी। जिसमें महाविकास आघाड़ी, शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस तीनों दलों ने मिलकर चुनाव लड़ने का फैसला किया था।  6 में से 4 स्नातक-शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों के परिणामों के अनुसार, कांग्रेस और राकांपा ने 3 सीटें जीती हैं। चूंकि अभी गिनती जारी है  इसलिए एक जगह परिणाम का इंतजार किया जा रहा है। बीजेपी, जो विपक्षी पार्टी है, को मात्र एक सीट से ही संतोष करना पड़ा है। धुले-नंदुरबार से एकमात्र निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा के अमरीश पटेल जीते हैं।

उस पर प्रतिक्रिया देते हुए शरद पवार (शरद पवार) ने कहा, महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव का यह परिणाम महाविकास आघाड़ी की जीत है। यह सफलता केवल इसलिए मिली है क्योंकि MVA सरकार ने एक साथ काम किया है। यह निर्णय हमारे लिए कोई आश्चर्य की बात नहीं थी क्योंकि धुले-नंदुरबार निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा की एक बड़ी बढ़त है। लेकिन पिछले एक वर्ष के दौरान महाविकास आघाड़ी सरकार द्वारा किए गए कार्यों के बल पर, महाविकास आघाड़ी को भी एक सीट मिली जो इसे पुणे और नागपुर निर्वाचन क्षेत्रों में कभी नहीं मिली। इस परिणाम से यह स्पष्ट होता  है कि, आम लोगों ने भी महाविकास अगाड़ी की सरकार को स्वीकार कर लिया है।  यह एक संकेत है कि महाराष्ट्र में तस्वीर बदल गई है।

चुनाव के इन परिणामों के कारण, महाविकास अगाड़ी के एक साथ चुनाव लड़ने के निर्णय को तीनों दलों के पदाधिकारियों द्वारा सराहा जा रहा है। तीनों दलों के एक साथ आगामी चुनाव लड़ने की भी उम्मीद बढ़ गई है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement