Advertisement

NCP के अजित पवार ने दिया विधायकी पद से इस्तीफा, हो सकते हैं ये तीन कारण

महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर हरिभाऊ बागडे ने उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया है।

NCP के अजित पवार ने दिया विधायकी पद से इस्तीफा, हो सकते हैं ये तीन कारण
SHARES

 

महाराष्ट्र की राजनीति में इस समय एनसीपी की गत खराब चल रही है। NCP नेता अजित पवार (Ajit Pawar) ने शुक्रवार को महाराष्ट्र विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर हरिभाऊ बागडे ने उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया है। हालांकि उन्होंने यह इस्तीफा क्यों दिया अभी तक इसकी वजह सामने नहीं आई है। 

हो सकते हैं ये तीन कारण 
लेकिन लोग अपने अपने हिसाब से तर्क लगा रहे हैं। कुछ लोगों का मानना है कि इस मामले में जिस तरह से शरद पवार को समर्थन हासिल हुआ उतना अजित पवार को नहीं, इसीलिए इस बात से नाराज हो कर अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया। जबकि दूसरा तर्क यह दिया जा रहा है कि सतारा में लोकसभा का होने वाले उपचुनाव में उन्हें उदयनराजे के खिलाफ लड़ाया जा रहा था और तीसरा तर्क यह है कि पार्टी में इस समय काफी उठापटक और मतभेद चल रहे हैं, जिससे अजित पवार खिन्न थे।

पढ़ें: MSCB घोटाला केस: पवार को मिला संजय राउत का साथ

बैंक घोटाले में हैं नामजद
आपको बता दें कि शुक्रवार को ही महाराष्ट्र स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक (Maharashtra State Co-Operative Bank) में 25000 करोड़ के घोटाले के मामले में नामजद किये गये एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) ईडी (ED) ऑफिस जाने वाले थे लेकिन बाद में उन्हें यह निर्णय बदलना पड़ा। यही नहीं इसी मामले में ईडी ने अजित पवार सहित 70 लोगों के भी खिलाफ केस दर्ज किया है। शुरुआत में मुंबई पुलिस ने इस मामले में एक एफआईआर दर्ज की थी।

यह मामला ऐसे समय पर दर्ज किया गया है जब महाराष्ट्र की सभी 288 सीटों पर 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं।माना जा रहा है कि आरोपियों को जल्द ही उनके बयान दर्ज करने के लिए एजेंसी द्वारा समन किया जाएगा। ईडी मामले में आरोपियों में दिलीपराव देशमुख, इशरलाल जैन, जयंत पाटिल, शिवाजी राव, आनंद राव अदसुल, राजेंद्र शिंगाने और मदन पाटिल शामिल हैं।

पढ़ें: शरद पवार नहीं गए ईडी कार्यालय


Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement