Advertisement

अभिनेत्री से नेत्री बनीं उर्मिला मातोंडकर ने कंगना रनौत को लेकर कही बड़ी बात

कंगना रनौत (kangana ranaut) के बारे में उन्होंने कहा, मैंने कंगना को जवाब देने के लिए कोई इंटरव्यूह नही दिया हैै। आलोचना करना लोकतंत्र में अधिकार है। कंगना को भी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है।

अभिनेत्री से नेत्री बनीं उर्मिला मातोंडकर ने कंगना रनौत को लेकर कही बड़ी बात
SHARES

अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर (urmila mainejar) ने मंगलवार, 1 नवंबर को शिवसेना (shiv sena) में शामिल हो गईं। इस मौके पर शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष और राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) सहित अन्य लोग उपस्थित थे। इसके बाद, उर्मिला मातोंडकर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने हिंदुत्व, बॉलीवुड और ड्रग्स को लेकर सवालों के जवाब दिये साथ ही कंगना रनौत (kangana ranaut) के बारे में भी सवालों के जवाब दिए।

मुंबई में एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए, उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि, शिवसेना में शामिल होने के लिए उन पर कोई दबाव नहीं था। जब मैं कांग्रेस में थी, तो मैंने किसी पद की उम्मीद नहीं की थी। भले ही मैं आज शिवसेना में शामिल हो गयी हूँ, लेकिन मुझे किसी पद की उम्मीद नहीं है। मैं लोगों के लिए काम करना चाहती हूं। मैं एक साधारण शिव सैनिक के रूप में पार्टी के लिए काम करूंगी। मुझे शिवसेना की मजबूत महिला मोर्चा का हिस्सा होने पर बहुत गर्व महसूस हो रहा है। जब मैंने सिनेवर्ल्ड में अपना करियर शुरू किया, तो मैं एक साधारण मराठी लड़की थी।  मैं 'पीपलमेड स्टार' हूं और मैं एक 'पीपल मेड लीडर' बनना चाहूंगी।

विधान परिषद में जाने के बारे में उर्मिला ने कहा, "मुझे पता है कि मेरा नाम विधान परिषद के लिए राज्यपाल को सुझाया गया है। मैं चाहती हूं कि, मेरी इच्छा है कि महाराष्ट्र विधान परिषद का दर्जा बढ़ाया जाए। उद्धव ठाकरे ने मुझसे कहा कि आप जैसे लोगों की जरूरत है।"

हिंदुत्व (hindutva) के बारे में पूछे जाने पर उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि, धर्मनिरपेक्ष का मतलब दूसरे धर्मों से नफरत करना नहीं है। मैं जन्म से हिंदू हूं और कर्म से भी हिंदू हूं। भगवान मंदिर में हैं। उसी तरह, हमारा धर्म आत्मीयता और विश्वास का विषय है।

उन्होंने कहा, एक हिंदुत्ववादी के रूप में, जहां धर्म का प्रश्न आया है, मैंने अपने धर्म के रूप में काम किया है और आगे भी करती रहूंगी। महाविकास आघाड़ी (mahavikas aghadi) ने पूरे साल बहुत अच्छा काम किया है। चाहे वह कोरोना संकट हो, तूफान या कोई अन्य आपदा। सरकार ने राजनीति के बजाय लोगों की समस्याओं को हल करने पर ध्यान केंद्रित किया। उर्मिला मातोंडकर ने यह भी स्पष्ट किया कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि किसी विशेष धर्म के लोगों को बिना किसी विशेष उपचार के समान उपचार दिया जाना चाहिए।

कंगना रनौत (kangana ranaut) के बारे में उन्होंने कहा, मैंने कंगना को जवाब देने के लिए कोई इंटरव्यूह नही दिया हैै। आलोचना करना लोकतंत्र में अधिकार है। कंगना को भी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है। इस मुद्दे को अनुचित महत्व दिया गया है। देश की राजनीति इस समय जहरीले माहौल में है। बॉलीवुड की छवि को धूमिल करने का सबसे घृणित प्रयास हुआ। मैं तब भी किसी के खिलाफ नहीं बोली थी और अब भी नहीं बोल रही हूं। मैं महाराष्ट्र की तरफ से बोल रही हूं। मैं झूठे आरोप लगाकर प्रचार हासिल नहीं करना चाहता। क्योंकि यह बहुत आसान तरीका है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय