Advertisement

राम मंदिर बनना ही चाहिए, लेकिन अभी समय ठीक नहीं: राज ठाकरे

इसके पहले एनसीपी सुप्रीमों शरद पवार (NCP supremo sharad pawar) ने भी कह चुके हैं कि, प्राथमिकता के आधार पर सरकार को पहले कोरोना पर ध्यान देना चाहिए था।

राम मंदिर बनना ही चाहिए, लेकिन अभी समय ठीक नहीं: राज ठाकरे
SHARES

महराष्ट्र मवनिर्माण सेना (maharashtra navnirman sena) के अध्यक्ष राज ठाकरे (raj Thackeray) ने राम मंदिर (ram mandir in ayodhya) मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, राम मंदिर जरूर बनना चाहिए, लेकिन अभी राम मंदिर का भूमि पूजन (ram temple bhoomi poojan) जल्दबाजी में किया जा रहा हैै, अभी यह ठीक समय नहीं है। राज ठाकरे ने यह बात एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा।

अयोध्या के राम मंदिर का भूमिपूजन कार्यक्रम 5 अगस्त को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra modi) द्वारा किया जाना है, इस समय राजनीतिक गलियारों में यह मुद्दा छाया हुआ है।

जब इस बारे में राज ठाकरे (raj thackeray) से उनकी प्रतिक्रिया पूछी गयी तो उन्होंने कहा, दो महत्वपूर्ण मुद्दे हैं। पहला क्या पहले राम मंदिर बनना चाहिए? फिर उन्होंने आगे कहा कि, जरूर होना चाहिए, यह मेरी भी इच्छा है कि अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए, बल्कि मैंने कई बार सार्वजनिक सभाओं में यह मुद्दा भी उठा चुका हूं।अगर अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होता है तो यह मेरी पार्टी के लिए बहुत गर्व की बात होगी।

दूसरा मुद्दा यह है कि, मुझे ऐसा नहीं लगता है राम मंदिर बनने का यह सही समय है, क्योंकि लोग अभी से कुछ अलग कारणों से चिंतित हैं। मुझे नहीं पता कि राम मंदिर के भूमिपूजन का समय इस समय क्यों तय किया गया है। राम मंदिर का भूमिपूजन बड़े पैमाने पर किया जाना चाहिए।  यहां तक कि अगर दो महीने तक भूमिपूजन होता, तो भी कम होता। लोग इसका आनंद ले सकते थे। लेकिन वर्तमान स्थिति में, भूमिपूजन के बाद यह एक दिन के लिए समाचारों में छाया रहेगा, एक दिन चर्चा होगी, लेकिन खुशी मनाने की मानसिकता नहीं होगी। लेकिन राम मंदिर भूमि पूजन का आनंद सही में है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण को देखते हुए इस भूमिपूजन कार्यक्रम के लिए केवल 200 चयनित लोगों को आमंत्रित किया जाएगा।

इसके पहले एनसीपी सुप्रीमों शरद पवार (NCP supremo sharad pawar) ने भी कह चुके हैं कि, प्राथमिकता के आधार पर सरकार को पहले कोरोना पर ध्यान देना चाहिए था।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि अगर उन्हें राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाता है तो भी वे अयोध्या नहीं जाएंगे।

संबंधित विषय
Advertisement