उद्धव ठाकरे ने बीजेपी सहित एनडीए को घेरा, कहा- राम मंदिर मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करें नीतीश कुमार और रामविलास पासवान

उद्धव ठाकरे सपरिवार पंढरपुर की यात्रा पर थे, इस दौरान सभी ने यहां के मशहुर विठोबा रखुमाई के दर्शन भी किये।

SHARE

शि‍वसेना कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने अपनी पंढरपुर यात्रा की सभा में एक बार फि‍र बीजेपी पर बड़ा हमला किया है। उन्होंने बीजेपी को राम मंदिर, राफेल, चुनावों में मिली करारी हार पर तो घेरा ही साथ ही किसानों आत्महत्या, बीमा योजना को लेकर भी बीजेपी पर हमला बोला। यही नहीं उन्होंने कहा कि पहरेदार ही चोरी कर रहे हैं। आपको बता दें कि उद्धव ठाकरे सपरिवार पंढरपुर की यात्रा पर थे, इस दौरान सभी ने यहां के मशहुर विठोबा रखुमाई के दर्शन भी किये।

राम मंदिर का मुद्दा 
राम मंदिर मुद्दे पर बोलते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि जो कुंभकर्ण सोया है, उसे जगाने के लिए मैं अयोध्‍या गया था और इसीलिए पंढरपुर में भी आया हूं। शिवसेना ही राम मंदिर का निर्माण करेगी। मैं अब वाराणसी जाने वाला हूं इसके बाद पूरा देश घुमुंगा। उन्होंने आगे कहा कि राम मंदिर के मुद्दे पर जद (यू) के नीतीश कुमार और लोजपा के रामविलास पासवान को अपना रूख स्पष्ट करना चाहिए था। ठाकरे ने कहा अब इस मामले को 30 साल हो गये हैं और आप अभी भी कह रहे हैं कि कोर्ट में केस चल रहा है। हिंदू मासूम हैं लेकिन मूर्ख नहीं हैं। संसद में राम मंदिर के मुद्दे पर बहस होनी चाहिए। एनडीए में कौन आपके साथ यह साफ हो जाएगा।

राफेल का मुद्दा 
शिवसेना प्रमुख ने राफेल डील पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक कंपनी जिसके पास कोई अनुभव नहीं था उसे कॉन्ट्रैक्ट दे दिया गया। रफेल खरीद में घोटाला हुआ है।कहते हैं कि कोर्ट नें क्लीन चिट दे दी। कैसे दी पता नहीं। हथियार और गोला-बारूद की खरीद में ये घोटाला कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में भी मिलेगी हार 
पांच राज्य में बीजेपी को मिली करारी हार के मद्देनजर उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिस तरह से  मिजोरम और तेलंगाना में क्षेत्रीय पार्टीयों नें बड़े राजनैतिक दलों का सूपड़ा साफ कर दिया उसका मैं उनका अभिनंदन करता हूं। छत्तीसगढ़ के लोगों ने भी अपने यहां की गंदगी साफ की है, अब जो काम मिजोरम और तेलंगाना ने किया वह महाराष्ट्र के लोगो को भी करना चाहिए।

कृषि‍ बीमा में भी घोटाला 
कृषि‍ बीमा में निजी 12 कंपनीयों को कॉन्ट्रेक्ट दिया गया है, राफेल की तरह ही कृषि‍ बीमा का ठेका निजी कंपनि‍यों को देकर करोड़ों रुपए का घोटाला हुआ है। उन्होंने उपस्थित जनसमूह से पूछते हुए कहा कि बड़े उद्योगों के कर्ज माफ होते हैं। किसानों के कर्जमाफ हुए क्या? 32 हजार करोड़ की कर्ज माफी का घोषणा की गई थी लेकिन अब तक एक भी किसान को की कर्जमाफी नही हुई। कर्जमाफी ही नहीं अब तक कृषि‍ बीमा भी नहीं मिला है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें