राज ठाकरे के विवादित बोल, कहा मनसे कार्यकर्ता दूसरों को पीटते हैं न कि पिट कर आते हैं...


SHARE

मनसे कार्यकर्ता दूसरों को पीटते हैं न कि वे पिट कर आते हैं, यह कहना हैं मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे का। सोमवार को शिवाजी पार्क स्थित अपने घर कृष्णा कुंज में बैठक आयोजित कर राज ठाकरे कार्यकर्ताओ से बात कर रहे थे। राज ठाकरे ने कार्यकर्ताओ को धमकी दी कि अगर आप मनसे के नेता हैं तो आपके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर आप ऐसे ही बार-बार पिटेंगे तो अपने पद से हाथ धोना पड़ेगा।

एलफिंस्टन हादसे के बाद निशाने पर फेरीवाले 

आपको बता दें कि मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे हादसे के बाद मनसे के निशाने पर मुख्य रूप से फेरीवाले हैं। मनसे कार्यकर्ताओं ने कई जगहों पर फेरीवालों के साथ मारपीट की। लेकिन यह दांव उस समय उल्टा पड़ गया जब मनसे के कार्यकर्ताओं को मलाड और विक्रोली इलाके में फेरीवालों ने जम कर पीट दिया। इस  हमले में फेरीवाले गंभीर रूप से जख्मी भी हो गए। बस इसी बात से खार खाए राज ठाकरे अपने कार्यकर्ताओं को पीटने की सलाह दे रहे थे न कि पिट कर आने की।

'तैयारी के साथ जाएं कार्यकर्ता'

राज ठाकरे ने कार्यकर्ताओं से चेतावनी भरे लहजे में कहा कि अगली बार जब आप एंटी-हॉकर अभियान पर जाएं तो पूरी तैयारी के साथ जायें। उन्होंने आगे कहा कि जब हम खुद की सुरक्षा नहीं कर सकते हैं तो दूसरों को कैसे रख सकते हैं। उन्होंने सख्त लहजे में हिदायत दी कि आगे से किसी कार्यकर्ता के पिटने की खबर नहीं आनी चाहिए।

गौरतलब है कि उत्तर भारतीय को मनसे कार्यकर्ता परप्रांती के नाम पर मारते पीटते हैं, इस विवाद में मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम भी कूद पड़े और उन्होंने कहा कि लोगों को अपनी रक्षा करनी चाहिए और मनसे को उसी के भाषा में जवाब देना चाहिए। तब से मनसे और संजय निरुपम के बीच हमेशा तल्खी बनी हुयी है।





संबंधित विषय
ताजा ख़बरें