प्रकाश आंबेडकर ने चुनाव को लेकर की बड़ी घोषणा

कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर अंबेडकर ने घोषणा की कि राज्य के सभी 48 लोकसभा सीटों पर से वंचित आघाड़ी के उम्मीदवारों को उतारा जाएगा। इससे पहले आघाड़ी ने 22 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है जबकि बाकी के 26 सीटों पर 15 मार्च को उम्मीदवारों के नाम रिलीज किये जाएंगे।

SHARE

भारिप बहुजन महासंघ के अध्यक्ष प्रकाश आंबेडकर ने चुनाव के मद्देनजर एक बड़ा निर्णय लिया है। इस लोकसभा के चुनाव के बाद भारिप बहुजन महासंघ पार्टी को वे वंचित बहुजन आघाड़ी में विलीन करना चाहते हैं। आपको बता दें कि प्रकाश आंबेडकर भारिप बहुजन महासंघ के अध्यक्ष हैं. उन्होंने जब MIM से गठबंधन किया तो उस गठबंधन को उन्होंने वंचित बहुजन आघाड़ी का नाम दिया।

प्रकाश आंबेडकर के मुताबिक उनका भारिप बहुजन महासंघ नाम से एक भावनात्मक लगाव है। लेकिन इसे वंचित बहुजन आघाड़ी में ही मर्ज किया जाएगा। आगामी लोकसभा चुनाव वंचित बहुजन आघाड़ी के बैनर तले ही लड़ा जाएगा।

राजनीतिक चर्चा करते हुए उन्होंने आगे कहा कि इस समय देश में दबाव तंत्र और ब्लैकमेलिंग की राजनीति शुरू है। स्मृति ईरानी ने गांधी परिवार पर आर्म्स डीलर के साथ संबंध रखने का जो आरोप लगाया है वह एक तरह से ब्लैकमेलिंग और दबाव की ही राजनीती है। अगर इस बारे में सरकार को पहले से थी पता था तो उन्होंने अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की?

कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर अंबेडकर ने घोषणा की कि राज्य के सभी 48 लोकसभा सीटों पर से वंचित आघाड़ी के उम्मीदवारों को उतारा जाएगा। इससे पहले आघाड़ी ने 22 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है जबकि बाकी के 26 सीटों पर 15 मार्च को उम्मीदवारों के नाम रिलीज किये जाएंगे।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें