कल्याण में किसानों का हिंसक प्रदर्शन, कई गाड़ियां फूंकी

 Mumbai
कल्याण में किसानों का हिंसक प्रदर्शन, कई गाड़ियां फूंकी
कल्याण में किसानों का हिंसक प्रदर्शन, कई गाड़ियां फूंकी
कल्याण में किसानों का हिंसक प्रदर्शन, कई गाड़ियां फूंकी
कल्याण में किसानों का हिंसक प्रदर्शन, कई गाड़ियां फूंकी
See all

अभी हाल ही में महाराष्ट्र में हुए किसान आन्दोलन को सरकार ने किसी तरह से शांत किया था, लेकिन उसके एक हफ्ते बाद ही मुंबई से मात्र 50 किमी दूर कल्याण के नेवाली में किसानों ने हिंसक प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कई महिला और पुरुष किसनों ने हिस्सा लिया। नेवाली के किसान कई दिनों ने अपनी मांगो को लेकर शांति पूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, गुरुवार को यह प्रदर्शन हिंसा में बदल गया।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि नाराज प्रदर्शनकारियों आैर पुलिस बल के बीच हालात को काबू में करने की कोशिश में झड़प हो गयी। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा बलों पर पथराव भी किया। झड़प में तीन पुलिस अधिकारी और एक कांस्टेबल घायल हो गये। भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों पर प्लास्टिक की गोलियां चलायीं। प्रदर्शनकारियों ने क्षेत्र में कल्याण हाजी मलंग मार्ग पर जलते टायर और लट्ठे फेंककर उसे बाधित कर दिया। उन्होंने पुलिस की एक वैन, तीन ट्रक, दो बाइक और एक टैम्पो में भी आग लगा दी।

बताया जा रहा है कि हालात को काबू में करने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और राजस्व अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गये। आंदोलनकारी किसानों ने इस महीने की शुरुआत में हवाईअड्डे के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा करीब 1,600 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किये जाने को चुनौती देते हुए बंबई हार्इकोर्ट में कई याचिकाएं दायर की थीं।


यह है किसानों की मांग

कल्याण के नेवाली गांव के किसानों से कुछ साल पहले सरकार ने एयरपोर्ट बनाने के लिए जमीन ली थी। लेकिन बाद में यहां सेना का कैम्प बनने लगा।किसान इसी बात का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि जमीन हवाई अड्डे के लिए ली गई थी, इसलिए यहां एयरपोर्ट ही बनना चाहिए। किसान कई दिनों से शांतिपूर्ण तरीके से प्रोटेस्ट कर रहे थे, लेकिन गुरुवार को आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया।

बता दें कि द्वितीय विश्व युद्ध के समय यह जमीन अंग्रेजी सेना के कब्जे में थी। आजादी के बाद यहां के किसानो ने इस जमीन पर कब्ज़ा कर लिया, लेकिन सरकार ने इसे एयरपोर्ट के नाम पर अधिग्रहण कर लिया। लेकिन सेना अब फिर इस जमीन पर अपना अधिकार चाहती है।


इलाके में भारी पुलिस बल तैनात

आंदोलनकारी किसानों ने सड़क को जाम कर दिया। सड़क पर खड़ी कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की और उसे आग के हवाले कर दिया जिनमें पुलिस की भी गाड़ी शामिल है। घटना के बाद से कल्याण से हाजी मलंग जाने वाले रास्ते को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिए गये हैं।


कुछ दिन पहले भी हुआ था किसान आंदोलन

इसके पहले भी 1 जून को अहमदनगर के पुणतांबा से किसानों ने आंदोलन शुरू किया था। यह आंदोलन से राज्य के कई हिस्सों में हिंसा हुई थी। आंदोलन के कारण फसल, सब्जियों और दूध की बर्बादी हुई। 8 दिन तक चले इस आन्दोलन में  8 किसानों ने खुदकुशी की थी। अंत में मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणविस से बात करने पर यह आन्दोलन समाप्त हुआ।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

 

  



Loading Comments