वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन

17 साल की उम्र से ही वकालत शुरू कर दी थी

SHARE

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन हो गया। जेठमलानी काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। रविवार की सुबह दिल्ली स्थित उनके निवास स्थान पर उनका निधन हो गया। राम जेठमलानी के एक बेटे महेश जेठमलानी भी है जो एक जाने माने वकील है। 

 लगभग सभी चर्चित केसों में वकील रहे जेठमलानी 94 साल की उम्र तक भी बेहद सक्रिय रहे. अपने धारदार तर्को से कठिन केस को अपने मुवक्किल के हिस्से में पलटने वाले जेठमलानी मात्र 17 साल के उम्र में ही वकील बन गये थे।  अविभाजित भारत में पाकिस्तान स्थित शिकारपुर में 14 सितंबर 1923 को जन्में राम जेठमलानी के परिवार में पिता और दादा वकील थे।लिहाजा वकालत की पेशे को लेकर आकर्षण बचपन से ही था।

पढ़ने में थे होशियार

जेठमलानी ने दूसरी, तीसरी और चौथी कक्षा की पढ़ाई एक साल में ही पूरी कर ली थी और मात्र 13 साल की उम्र में मैट्रिक पास कर गये थे। जब उनकी उम्र 17 साल की हुई तब वह वकालत की डिग्री हासिल कर चुके थे लेकिन उन दिनों नियम के हिसाब से प्रैक्टिस करने की न्यूनतम उम्र 21 साल रखी गयी थी। हालांकि जेठमलानी के विशेष योग्यता को देखते हुए इस उम्रसीमा में छूट दी गयी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें