सबरीमाला पर स्मृति ईरानी का विवादित बयान, कहा- खून में भीगे सैनेटरी पैड लेकर अपने दोस्त के घर जाएंगे?


SHARE

सबरीमाला पर जारी संग्राम पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने एक विवादित बयान दिया है। स्मृति ईरानी का कहना है कि क्या आप माहवारी के ब्लड में भीगा सैनेटरी पैड लेकर अपने दोस्त के घर जाएंगे? आप ऐसा नहीं करेंगे। और, आपको लगता है कि क्या आप मंदिर जाते वक्त ऐसा करेंगे तो ये सम्मानजनक होगा? ईरानी मुंबई में ऑब्जर्वर रिसर्च ऑर्गनाइजेशन और ब्रिटिश डिप्टी हाईकमीशन की 'यंग थिंकर्स' कार्यक्रम में बोल रही थीं।


'मैं भी अग्यारी के बाहर इंतजार करती हूँ'

स्मृति ईरानी  'यंग थिंकर्स' कार्यक्रम में बोलतीं हुईं आगे कहा कि पूजा करने का अधिकार सबको है, लेकिन अपमान करने का किसी को नहीं। उन्होंने कहा मैं हिंदू, मेरी शादी पारसी से हुई है। मैंने ये निश्चित किया है कि मेरे दोनों बच्चे पारसी धर्म का पालन करें। उन्होंने कहा जब वे अपने परिवार के साथ पारसी मंदिर (अग्यारी) जाती हैं तो वे बाहर इंतजार करती हैं क्योंकि अग्यारी में गैर पारसियों को जाने की इजाजत नहीं होती है।

हालांकि उन्होंने आगे यह भी जोड़ा कि वे केंद्रीय मंत्री हैं और सबरीमाला में हर उम्र की महिलाओं के प्रवेश के सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुलेआम नहीं बोल सकती हैं।

क्या है सबरीमाला का मामला?

केरल में स्थित सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश निषेध है, वहां 10 से 50 साल उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जाता। इस बात को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गयी थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं के प्रवेश को मंजूरी दे दी, इसके बाद 17 अक्टूबर को मंदिर को मासिक पूजा के लिए खोला गया जिसमें महिलाओं ने भी प्रवेश करना चाहा लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ लोगो ने विरोध प्रदर्शन और हिंसक आंदोलन भी किया जो अभी भी जारी है। 

क्या है सबरीमाला का इतिहास 

सबरीमाला भगवान अयप्पा का मंदिर है, मान्यता है कि अय्यपा, भगवान शिव और विष्णु के स्त्री रूप अवतार मोहिनी के पुत्र हैं। माना जाता है कि वे ब्रह्मचारी हैं इसलिए यहां पीरियड की उम्र (10 से 50 साल) वाली महिलाओं का प्रवेश प्रतिबंधित है, यह प्रथा पिछले 800 साल से चली आ रही है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें