बीडीडी चॉल के युवक ने रचा इतिहास, देश को दिलाया गोल्ड

लोअर परेल - अगर आप में कुछ कर गुजरने का जज्बा है तो आपको उसे करने के लिए दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती, यह करके दिखाया है बीडीडी चॉल के रहने वाले ओमकार नेटके ने। जिसके पास मुंबई में रहने के लिए ढंग का घर नहीं है, वह आर अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बन गया है। ओमकार नेटके ने अंतरराष्ट्रीय कैरम प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल हासिल किया है।

छोटी सी खोली में रहने वाले ओमकार कॉलेज के अलावा अपने पिता के लॉन्ड्री के काम में उनकी सहायता करते हैं। ओमकार नेटके सुबह कॉलेज जाते हैं, उसके बाद दो घंटे कैरम की प्रैक्टिस करते हैं और इसके बाद पिता की सहायता उनके लॉन्ड्री के काम में करते है। ओमकार नेटके की यह रोज की दिनचर्या है। आपको यकान नहीं हो रहा होगा पर ओमकार नेटके ने एशियन कैरम स्पर्धा में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया है। इस गोल्ड मेडल के लिए ओमकार नेटके ने अपने ट्रेनर संदीप सावला का आभार प्रगट किया है।

ओमकार नेटके की मां सीमा नेटके बेटे की कामयाबी से बेहद खुश हैं पर वे चाहती हैं कि उनका बेटा कैरम खेलने के साथ साथ अपनी पढ़ाई भी पूरी करे।



Loading Comments