एकता का संगम, मुंबई मैराथन

मुंबई - मुंबई मैराथन, हर साल की तरह इस साल भी उमड़ा लोगों का हुजूम, जिसमें क्या जवान क्या बुजुर्ग, और क्या महिला। देश ही नहीं विदेश के भी धावकों को भी यह मैराथन आकर्षित करती है। इस मैराथन में जहां एक तरफ आम लोग जुटते है तो वही दूसरी तरफ सेलिब्रिटी, राजनेता भी बढ़चढ़ कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं। हर साल होने वाली यह मैराथन अब मुंबई की पहचान बन चुकी है। इस मैराथन का आकर्षण इसी बात से लगाया जा सकता है कि बाईपास सर्जरी से गुजर चुके बुजुर्गों ने भी इस दौड़ का हिस्सा बने। यही नहीं धावकों का उत्साहवर्धन करने के लिए भी यहां भारी मात्रा में लोग जुटे थे। हर क्षेत्र से आए इस मैराथन में हर वर्ग हर उम्र के लोग बिना किसी भेदभाव के दौड़ रहे थे, शायद इसीलिए मुंबई को मिनी भारत कहा जाता है।

Loading Comments